क्या आपने कभी सुना है कि किसी की भी पेंटिंग करोड़ो में बिक सकती है नहीं तो आज हम आपको कुछ ऐसी ही एक पेंटिंग के बारे में बताने जा रहे है. जी हाँ अमरीका के न्यू यॉर्क में जीसस क्राइस्ट की कई सदियों पुरानी पेंटिंग को करीब 2940 करोड़ रुपये में ख़रीदा गया है. ईसा मसीह की इस 500 साल पुरानी पेंटिंग का नाम साल्वाडोर मुंडी  है जिसे लियोनार्दो द विंची ने बनाया था.

इस पेंटिंग की नीलामी ने दुनिया में अब तक सबसे महंगी कलाकृति बनने का रिकॉर्ड बनाया है. मशहूर कलाकार लियोनार्दो द विंची ने साल 1519 में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था. लगभग तीन हज़ार करोड़ रुपये देकर ख़रीदा गया है. हालांकि पेंटिंग ख़रीदने वाले का नाम गुप्त रखा गया है. न्यू यॉर्क में नीलामी के दौरान खरीददार ने 20 मिनट तक टेलीफोन पर बात करते हुए इस पेंटिंग के लिए 40 करोड़ डॉलर की अंतिम बोली लगाई.

कभी इस पेंटिंग को मात्र 60 डॉलर में नीलाम किया गया था. तब ये माना जा रहा था कि ये पेंटिंग दा विंची के किसी शिष्य ने बनाई है. कहते हैं कि अब तक ये आम सहमति नहीं बनी है कि ये लियोनार्दो द विंची की पेंटिंग है. एक क्रिटिक कहते हैं कि पेंटिंग की सतह पर अब तक इतनी बार काम हो चुका है कि ये एक ही समय में नई और पुरानी लगती है.

वल्चर डॉट कॉम पर जेनी साल्ट्ज़ लिखती हैं अगर कोई निजी संग्रहकर्ता इस पेंटिंग को खरीदकर अपने अपार्टमेंट और स्टोर में रखता है तो ये उसके लिए ठीक है. माना जाता है कि ये पेंटिंग 15वीं सदी में इंग्लैंड के राजा चार्ल्स प्रथम की संपत्ति थी. चार साल पहले रूसी संग्रहकर्ता दमित्री ई रयाबोलोव्लेव ने इस पेंटिंग को 12.7 करोड़ डॉलर में खरीदा था.