हमले के बाद बोले उमर खालिद – ‘देश में खौफ का माहौल, खिलाफ बोलने वाले डराया-धमकाया जा रहा’

0
110

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्याल के छात्र नेता उमर खालिद पर जानलेवा हमला हुआ है। संसद के पास उन पर अज्ञात हमलावर ने फायरिंग की। हमले में वे बाल-बाल गए।

जानकारी के अनुसार, वह यूनाइटेड अगेन्स्ट हेट नामक संगठन  के कॉन्स्टिट्यूशनल क्लब में  ‘खौफ से आजादी’ कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस दौरान कार्यक्रम से पहले उन पर एक टी स्टाल पर ये हमला हुआ। हमले के बाद द क्विंट से बातचीत में उन्होने कहा, “जब उसने मेरी तरफ़ पिस्टल तानी तो मैं काफ़ी डर गया था। मुझे गौरी लंकेश के साथ जो हुआ था, उसकी याद आ गई थी।”

घटना के बाद उमर खालिद ने कहा, ‘‘देश में खौफ का माहौल है और सरकार के खिलाफ बोलने वाले हर व्यक्ति को डराया-धमकाया जा रहा है।’’  हादसे के वक्त मौजूद ख़ालिद सैफ़ी ने बीबीसी को बताया कि दो राउंड गोली चली है। बता दें कि इस कार्यक्रम में  वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, जदयू सांसद भी शामिल हुए थे। कार्यक्रम में देश में होने वाली उन्मादी और धार्मिक हिंसाओं जैसेे मुद्दों पर चर्चा होनी थी।

जॉइंट सीपी अजय चौधरी के मुताबिक उमर ख़ालिफ यहा कार्यक्रम में आए थे बाहर गए थे, चाय पीने तब उसी समय ये घटना हुई। पुलिस को जानकारी नही थी की अंदर कोई प्रोग्राम है। पुलिस ने हमले मे इस्तेमाल पिस्टल को बरामद किया है। आरोपियों के भागते समय उनके हाथों से पिस्टल गिर गया था। हालांकि गोली चलाने के बाद हमलावर फरार हो गया।

कार्यक्रम के इन्वीटेशन के मुताबिक, सोमवार 2.30 बजे कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में ‘ख़ौफ से आज़ादी’ कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इसमें प्रशांत भूषण (सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील), मनोज झा (सांसद), प्रोफेसर अपूर्वानंद (दिल्ली यूनिवर्सिटी), अली अनवर (पूर्व सांसद), फातिमा नफीस (नज़ीब अहमद की मां), राधिका वेमुला (रोहित वेमुला की मां), फातिमा (जुनैद की मां), फातिमा (अलीमूद्दीन की पत्नी), समयदीन (हापुड़ लिंचिग मामले का पीड़ित), यशपाल सक्सेना (अंकित सक्सेना के पिता) और डॉक्टर कफील ख़ान (बीआरडीएम गोरखपुर के सस्पेंडेड डॉक्टर) को बुलाया गया था।