‘ओवैसी ने सेकुलरिज्म को बताया संवैधानिक गाली’

0
57

नई दिल्ली : ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सेक्युलरिज्म (धर्मनिरपेक्षता) शब्द को संवेधानिक गाली करार दिया। उन्होने कहा कि संविधान में सेक्युलरिज्म (धर्मनिरपेक्षता) शब्द गाली जैसा लगता है।

इस बारे में उन्होने कहा, “संविधान में जो उल्लेख किया गया है, हम उसके मतलब और रूह को आज तक समझ ही नहीं पाए है। लोगों ने सेक्युलरिज्म का मतलब यह बना कर रख दिया है कि मुस्लिम लोग धर्मनिरपेक्ष पार्टी के अधीन रहे। सेक्युलरिज्म का मतलब ये नहीं है कि हिंदुस्तान की लोकसभा में सिर्फ कुछ गिने चुने मुसलमान ही जीत कर आए।

ओवैसी ने आगे कहा सेक्युरलिज्म के यह भी मायने नहीं है कि बीजेपी मुस्लिमों को टिकट न दें। उन्होंने  गुजरात, कर्नाटक और यूपी का नाम लिया। उन्होने कहा, सेक्युरलिज्म का हरगिज मतलब ये नहीं है कांग्रेस अध्यक्ष मंदिरों को जाएं पर मस्जिदों में न जाएं।

उन्होने कहा, संघ (आरएसएस) मुख्यालय जाकर मुसलमानों को सांप कहता है, उसे आप बगल में बैठाते हैं। सेक्युलरिज्म के नाम पर हमारा इस्तेमाल किया गया। अगर आज सच्चर कमेटी जो सच कह रही है, वह झूठ है क्या? वह सेक्युलरिज्म की वजह से है।

बता दें कि ओवैसी ने मुस्लिम राजनीति और साल 2019 के लोकसभा चुनावों पर एक निजी चैनल के सवालों पर ये बाते कहीं। हालांकि इससे पहले भी ओवैसी कई बार सेक्युलरिज्म (धर्मनिरपेक्षता) को मुस्लिमों के साथ एक धोखा बता चुके है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें