जो धर्म की राजनीति करते हैं, वे हिंदुत्व की बात करते हैं: राहुल गांधी

0
37

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि वह नरम या कट्टर हिंदुत्व में विश्वास नहीं रखते हैं. मैं हिंदू धर्म मानता हूं. लेकिन मैं धर्म की राजनीति नहीं करता.

उन्होंने कहा, “मैं हिंदुत्व के किसी भी प्रकार में विश्वास नहीं रखता, चाहे वह नरम हिंदुत्व हो या कट्टर हिंदुत्व. हिंदू हैं, बस हो गया..जो धर्म की राजनीति करते हैं, वे हिंदुत्व की बात करते हैं. हमें धर्म की राजनीति नहीं करनी है. हिंदू होना और धर्म की राजनीति करना, दो अलग-अलग चीजें हैं.”

राहुल ने कहा कि धार्मिक नेताओं से उनकी मुलाकात और धार्मिक स्थलों पर जाने में कुछ भी गलत नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मतभेद पर उन्होंने जोर देकर कहा कि यह वैचारिक मतभेद है न कि व्यक्तिगत. साथ ही उन्होने ये भी भविष्यवाणी की – “नरेंद्र मोदी 2019 में प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे.”

उन्होंने पूर्वानुमान लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 230 सीटें तक नहीं मिलेंगी और इसलिए मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने का सवाल ही पैदा नहीं होता. भाजपा की उत्तर प्रदेश और बिहार में सीटें घटेंगी, क्योंकि गैर-भाजपा दलों के बीच गठबंधन है.

संसद में मोदी को गले लगाने के सवाल पर राहुल ने कहा कि उनका यह दिखाने का इरादा था कि वह आलोचना करते हैं, लेकिन किसी से नफरत नहीं करते. उन्होंने कहा हालांकि प्रधानमंत्री ने अपनी प्रतिक्रिया में ज्यादा सक्रियता नहीं दिखाई. राहुल ने आरोप लगाया कि मोदी राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को ज्यादा सम्मान नहीं देते हैं.

उन्होंने देश में बढ़ती असहिष्णुता पर चिंता प्रकट की और कहा कि देश में अल्पसंख्यक खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. उपरोक्त बाते राहुल ने मंगलवार को तेलंगाना के दो दिवसीय दौरे के दौरान कही.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें