नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी

0
115

भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हो गया है. उनकी मौत के बाद उन्होंने पुरे देश को उदास कर दिया है हर तरफ शोक की लहर है.

अटल बिहारी वाजपेयी की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है. एम्स ने वाजपेयी की सेहत को लेकर नया हेल्थ अपडेट जारी किया है. इस अपडेट में बताया गया है कि उनकी हालत पहले की तरह ही बनी हुई है. उन्हें अभी भी लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर रखा गया है. एम्स ने इससे पहले की प्रेस रिलीज में बताया था कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पिछले 9 सप्ताह से AIIMS में भर्ती हैं.

लेकिन अब पिछले 24 घंटों में दुर्भाग्य से उनकी स्थिति और बिगड़ी है. उनकी हालत बेहद नाजुक है. इस बीच त्रिपुरा के राज्‍यपाल तथागत रॉय ने ट्वीट कर पूर्व प्रधानमंत्री के निधन पर दुख जता दिया. हर कोई उनके लिए दुआ कर रहा है. वहीँ अटल के परिजन भी रो रहे है.

अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी के कवि, पत्रकार और प्रखर वक्ता भी थे. भारतीय जनसंघ की स्थापना में भी उनकी अहम भूमिका रही. वे 1968 से 1973 तक जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे. आजीवन राजनीति में सक्रिय रहे अटल बिहारी वजपेयी लंबे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादन भी करते रहे. वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्पित प्रचारक रहे और इसी निष्ठा के कारण उन्होंने आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लिया था. सर्वोच्च पद पर पहुंचने तक उन्होंने अपने संकल्प को पूरी निष्ठा से निभाया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें