क़तर, जर्मनी के बाद अमेरिका के खिलाफ चीन और फ़िलिस्तीन भी आये तुर्की के समर्थन में

0
343

इन दिनों अमेरिका की वजह से तुर्की की अर्थव्यवस्था में तेज़ी से गिरावट आई है जिसकी वजह से अमेरिका के खिलाफ कई देश तुर्की का समर्थन का रहे है. तुर्की अर्थव्यवस्था और तुर्की और चीन के बीच व्यापार संबंधों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक नए उपाय में, अरबपति जैक मा की अगुआई वाले सबसे अमीर पचास चीनी व्यापारियों ने साझेदारी स्थापित करने और नए निवेश के अवसरों की खोज के लिए तुर्की की ओर कदम बढ़ाया है.

तुर्की मीडिया ने बताया कि चीनी समूह में व्यवसायी शामिल हैं, उनमें से प्रत्येक का व्यक्तिगत धन 15 से 30 अरब डॉलर की सीमा के भीतर है. पुरुष निजी और सार्वजनिक क्षेत्रों में संयुक्त परियोजनाओं की स्थापना के अवसरों पर चर्चा के लिए तुर्की में वरिष्ठ अधिकारियों और प्रमुख व्यापारियों से मिलने का इरादा कर रहे है.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने अमेरिका के साथ चल रहे विवाद के दौरान फिलीस्तीनी लोगों का तुर्की को समर्थन देने की बात पर जोर दिया.  अब्बास ने राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्दोगान ने फ़ोन कॉल पर तुर्की के हालत बेहतर होने की उम्मीद जताई है.

आपको बता दें कि, तुर्की लीरा अंकारा और वाशिंगटन के बीच चल रहे तनाव के चलते कम रिकॉर्ड दर्ज करने के लिए गिरावट आई है. पिछले शुक्रवार, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घोषणा की कि तुर्की से लोहे और एल्यूमीनियम आयात टैक्स को दुगना का दिया है.

इसी के साथ क़तर और जर्मनी ने भी तुर्की का पूर्ण समर्थन का वादा किया है साथ ही क़तर ने तुर्की में 15 मिलियन ओल्लर का निवेश किया है ताकि तुर्की की आर्थिक मदद हो सके.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें