केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए यूएई ने किया 700 करोड़ की मदद देने का ऐलान

0
119

तिरुवनंतपुरम: केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने मंगलवार को कहा कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने बाढ़ प्रभावित राज्य केरल के पुनर्निर्माण के लिए 10 करोड़ डॉलर की वित्तीय सहायता की प्रतिबद्धता जताई है। बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात की और से केरल के पुनरुद्धार के लिए ये रकम करीब 700 करोड़ रुपये की होती है।

मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कहा, ‘केरल की मदद के लिए कई लोग आगे आए हैं। भारत क अलग-अलग राज्यों से मदद के साथ ही दूसरे राष्ट्र भी बाढ़ प्रभावित केरल के लिए मदद भेज रहे हैं। यूएई ने एक राहत पैकेज का प्रस्ताव दिया है और दूसरे खाड़ी देश भी चारों ओर से हमारी मदद कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा, “एक नया केरल बनाया जाना जरूरी है। आज की कैबिनेट बैठक में केंद्र को विस्तृत सूची भेजने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए कोष जरूरी है। यह केंद्र और अन्य एजेंसियों के अलावा विभिन्न स्रोतों के माध्यम से प्राप्त किया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “केरल के प्रवासी हमारे लिए मदद का एक बड़ा स्रोत हैं। चूंकि उन्होंने मध्य पूर्व में जबरदस्त काम किया है, इसलिए इससे हमें सरकारों के बीच अच्छे संबंध बनाने में मदद मिली है।” समय से सहायता के लिए अमीरात का धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा, “आज सुबह यूएई के शाह ने हमारे प्रधानमंत्री को बताया और उन्होंने हमारे विधायक यूसुफ अली को इस बारे में सूचित किया।”

विजयन ने कहा, “हम राज्य के लिए एक विशेष पैकेज की मांग करेंगे।” वहीं, सोमवार तक मुख्यमंत्री राहत कोष में कुल योगदान 210 करोड़ रुपये आ चुका है, जबकि अतिरिक्त 160 करोड़ रुपये देने की प्रतिबद्धता जताई जा चुकी है।

वहीं, अरबपति एनआरआई और अबु धाबी में स्थित वीपीएस हेल्थकेयर के चेयरमैन डॉक्टर शमशीर वयालिल ने केरल के आपदाग्रस्त लोगों की मदद के लिए 50 करोड़ रुपये का दान देने का फैसला किया है, जो कि अबतक निजी रूप से दी जानेवाली रकम में सबसे ज्यादा है।

वहीं केंद्र सरकार की बात की जाए तो अब तक केरल को पीएम मोदी ने बाढ़ राहत कोष से केरल को 500 करोड़ की मदद का भी ऐलान किया। इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी 100 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान कर चुके हैं। केरल बाढ़ को राष्ट्रिय आपदा घोषित नहीं किए जाने को लेकर मोदी सरकार की आलोचना हो रही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें