बमों के लिए लड्डू तो खुद के लिए विष्णु जैसे कोड वर्ड इस्तेमाल करते थे सनातन आतंकी

0
206

रविवार को देसी बम बरामदगी केस में महाराष्ट्र एटीएस ने सनातन आतंकियों के बाद अब शिवसेना के चालीस वर्षीय पार्षद श्रीकांत पांगारकर को गिरफ्तार कर चुकी है। महाराष्ट्र एटीएस ने अब जांच के बाद इन आतंकियों के बारें में बड़ा खुलासा किया है।

महाराष्ट्र एटीएस को जांच के दौरान पता चला कि गिरफ्तार किए गये व्यक्ति एक दूसरे से बातचीत करने के लिए ‘विष्णु’और ‘वामन’जैसे कोड नामों का इस्तेमाल करते थे। एक अधिकारी ने बताया कि कलसकर का कोड नाम ‘विष्णु’,वैभव राउत का उपनाम ‘वामन’ और गोनधलेकर को ‘पांडेजी’के नाम से बुलाया जाता था।

एटीएस सूत्रों के मुताबिक आरोपियों के घर से बरामद हार्ड डिस्क्स, मोबाइल फोन और सोशल मीडिया अकाउंट खंगालने के बाद ऐसे चौंकाने वाले कोर्ड वर्ड का खुलासा हुआ। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के दौरान पता चला कि वामन, विष्णु और लड्डू जैसे शब्द किस कोड के तहत इस्तेमाल होते हैं।

बता दें कि एटीएस ने इससे पहले वैभव राउत, शरद कलसकर और सुधान्वा को गिरफ्तार किया था। वैभव राउत के घर कई देसी बम और हथियार बनाने की सामग्री मिली थी। इतना ही नहीं आतंकियों से चार एयर पिस्टल्स, 20 एयर पिस्टल पैलेट्स, दो सीपीयू, दो नोटबुक, एक डायरी, तीन मोबाइल और दो सिमकार्ड बरामद किए थे।

इन आतंकियों की मराठा आरक्षण आंदोलन के दौरान बम धमाके करने की योजना थी। आरोपितों की योजना बम धमाकों को मुंबई, पुणे, सतारा, सोलापुर और नालासोपारा में अंजाम देने की थी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें