ब्रिटेन में बोले राहुल गांधी – ‘आरएसएस की सोच मुस्लिम ब्रदरहुड जैसी’

0
52

जर्मनी के बाद लंदन पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर आरएसएस पर तीखा हमला किया है। उन्होने इस बार आरएसएस की तुलना मुस्‍लिम ब्रदरहुड से की है।उन्होने कहा, आरएसएस का विचार अरब दुनिया के मुस्लिम ब्रदरहुड के विचार के समान है।

राहुल गांधी ने कहा कि, आरएसएस भारत की प्रकृति को बदलने की कोशिश कर रहा है। अन्य पार्टियों ने भारत की संस्थाओं पर कब्जा करने के लिए कभी हमला नहीं किया। आरएसएस की सोच अरब देशों की मुस्लिम ब्रदरहुड जैसी है।1947 में पश्चिम को भारत पर भरोसा नहीं था। लेकिन भारत ने पश्चिम को गलत साबित कर दिया। हमें सफलता इसलिये मिली क्योंकि हजारों लोगों ने संस्थाओं का निर्माण किया, और यही वो संस्थाएं हैं जिन पर आज हमला हो रहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा जारी वीडियो के मुताबिक राहुल ने संघ पर हमला करते हुए कहा, “एक संस्था है जिसे आरएसएस के नाम से जाना जाता है…ये भारत की प्रकृति को बदलने की कोशिश कर रहा है…देखिए भारत में कोई ऐसी दूसरी संस्था नहीं है जो भारत की संस्थाओं पर कब्जा करना चाहती है…जब कांग्रेस सत्ता में आती है, समाजवादी पार्टी सत्ता में आती है…वे भारत की संस्थाओं पर हमला करने और उस पर कब्जा करने की कोशिश नहीं करते हैं…जो हमलोग सामना कर रहे हैं वो पूरी तरह से एक नयी विचारधारा है…एक पुरानी विचारधारा है जो फिर से पैदा हुई है…ये वैसी ही विचारधारा है जो अरब देशों में मुस्लिम ब्रदरहुड के पास है…मैं इसकी तुलना करूंगा।”

राहुल गांधी ने कहा एनडीए की सरकार की विदेश नीति स्‍थायित्‍व नहीं है। पाकिस्‍तान से कभी बात आगे बढ़ाई जाती है तो कभी उससे दूरी बना ली जाती है। एनडीए सरकार की विदेश नीति एक तरह से काम नहीं कर रही है। उन्‍होंने कहा कि डोकलाम के मुद्दे को पीएम मोदी एक घटना के तौर पर देखते हैं।

राहुल ने पीएम पर हमला करते हुए कहा कि अगर सरकार ने चीन की तरफ भी देखा होता तो डोकलाम जैसा मुद्दा सामने आया ही नहीं होता। डोकलाम जैसी घटना को पहले ही रोका जा सकता था। सच्चाई ये है कि चीनी आज भी डोकलाम में मौजूद हैं। उन्होंने नोटबंदी पर बात करते हुए मोदी सरकार पर गंभीर आरोप भी लगाए हैं। राहुल का कहना है कि ‘नोटबंदी का विचार वित्त मंत्री और आरबीआई को नज़रंदाज़ करके, सीधे आरएसएस से आया और प्रधानमंत्री के दिमाग में बैठा दिया गया।’