UN की सऊदी को चेतावनी- सऊदी सेना फ़ौरन बंद करें यमन में खून खराबा

0
149

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने आज कहा कि यमन में युद्ध में सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन द्वारा हवाई हमलों में यमन में बड़ी मात्र में लोग मारे गये है. UN ने यमन में होने वाली मौत्न का ज़िम्मेदार सऊदी अरब को ठहराया है.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, विशेषज्ञ पैनल ने यह भी कहा कि हुती विद्रोहियों ने सऊदी अरब में मिसाइलो से हमले किये है और यमनी शहर ताइज पर भी हमले किये है. इसने उन्हें युद्ध अपराधों, दोनों बाल सैनिकों को यातना और तैनाती करने का आरोप लगाया.

सऊदी अरब 2015 में ईरान-गठबंधन हुती द्वारा राजधानी सना से हटाए गए यमनी राष्ट्रपति अब्द रब्बूह मंसूर हादी की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार को बहाल करने की कोशिश कर रहे सुन्नी मुस्लिम अरब राज्यों के पश्चिमी समर्थित गठबंधन का नेतृत्व कर रहा है.

विशेषज्ञों ने कहा कि उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन की जांच नहीं की, जो गठबंधन के लिए हथियार और खुफिया आपूर्ति करते हैं, या हुती के लिए ईरानी समर्थन प्रदान करते हैं लेकिन अन्य संयुक्त राष्ट्र निकाय ऐसा कर रहे थे. उन्होंने सभी राज्यों से युद्ध समाप्त करने में मदद के लिए हथियारों की बिक्री को प्रतिबंधित करने का आग्रह किया.

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की रिपोर्ट यमन में संभावित युद्ध अपराधों में पहली संयुक्त राष्ट्र की जांच थी, हालांकि अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूहों ने नियमित रूप से दुर्व्यवहार दस्तावेज किया है. इसे जेडीवा में 6 सितंबर के लिए निर्धारित हदी की सरकार और हुतियों के बीच संयुक्त राष्ट्र शांति वार्ता से पहले जारी किया गया था.

पैनल ने कहा कि यमन में युद्ध में 10,000 से ज्यादा लोग मारे गए हैं और 8.4 मिलियन अकाल के कगार पर हैं. सऊदी सेना ईमन पर जो बम बरसाती है वह अमेरिका द्वारा दिए जाते है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें