एर्दोगान की चेतावनी: अमेरिकी प्रतिबंधों के आगे नहीं झुकेगा तुर्की, रूस से ख़रीदकर रहेगा मिसाइल

0
179

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्डोगान ने शुक्रवार को कहा कि तुर्की को रूसी निर्मित एस -400 वायु रक्षा प्रणालियों और अमेरिकी निर्मित एफ -35 लड़ाकू जेट दोनों की जरूरत है, और यह भी कहा गया है तुर्की अमेरिका द्वारा लगाये गये प्रतिबंधों को कभी स्वीकार नहीं करेंगा.

एर्दोगान ने पश्चिमी बालिकेसिर प्रांत में गैर-कमीशन अधिकारियों के स्नातक समारोह में कहा की, “तुर्की को एस -400 मिसाइलों की जरूरत है और सौदा किया जा चुका है हम उन्हें जल्द से जल्द खरीद लेंगे.”

तुर्की मीडिया के मुताबिक, “तुर्की, जो पहले से ही एक प्रोजेक्ट पार्टनर है, को एफ -35 लड़ाकू विमानों, इसके घरेलू रूप से विकसित विमानों और अन्य देशों के साथ विकसित विमानों की भी ज़रूरत है. हमने अब तक 900 मिलियन डॉलर का भुगतान किया है [एफ -35 के लिए] और किस्तों के रूप में भुगतान करना जारी है.

एर्दोगान ने कहा कि अमेरिका या अन्य पश्चिमी देशों ने तुर्की की जरूरत होने पर बहाने के साथ हथियारों की बिक्री को अवरुद्ध कर दिया, लेकिन जब देश इन हथियारों को कहीं और खरीदना चाह तो रोक लगा दी.

यू.एस. ने चिंता व्यक्त की है कि नाटो सहयोगी एस -400 की तुर्की की योजनाबद्ध तैनाती से कुछ अमेरिकी निर्मित हथियार और एफ -35 सहित तुर्की द्वारा उपयोग की जाने वाली अन्य तकनीक की सुरक्षा का जोखिम हो सकता है. यह स्पॉट उस समय आया जब दोनों सहयोगी कई मुद्दों पर बाधाओं में थे, जिसमें यू.एस. ‘ पीकेके आतंकवादी समूह के सीरियाई लोगों के समर्थन में पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी), गुलनिस्ट आतंक समूह (एफईटीओ) नेता फेतुल्ला गुलेन का प्रत्यर्पण और अमेरिकी पादरी एंड्रयू ब्रूनसन की गिरफ्तारी, जिसे आतंक और जासूसी के आरोपों पर कोशिश की जा रही है.