लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा और पुलिस इंस्‍पेक्‍टर की मौ’त के मामले में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने गंभीर सवाल उठाते हुए बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। उन्‍होंने सवाल उठाते हुए कहा है कि यदि वास्तव में मवेशी के शव बरामद हुए थे तो पुलिस को इसकी जांच करनी चाहिए, कि ये शव वहां पर कौन लाया, क्योंकि जिस क्षेत्र में यह घटना हुई है, वहां पर अल्पसंख्यक आबादी नहीं है।

अज़ाम खान ने कहा, ‘दो मौ’तें हुई हैं, एक इंस्पेक्टर की और एक आम शख्स की और जो बात सुनने में आ रही है अगर मैं बताऊंगा तो और माहौल खराब होगा।’ उन्होंने कहा कि एसआईटी अगर जांच करेगी तो उसे यह जांच भी करनी चाहिए कि आखिर इस गोश्त को यहां लाया कौन था, क्योंकि वहां तो दूर-दूर तक खास समुदाय की आबादी नहीं है।

आजम ने कहा, पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह दादरी में मोहम्मद अखलाक लिंचिंग मामले में जांच अधिकारी थे। ऐसे में एसआईटी की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। पर, एसआईटी के बारे में बहुत कुछ नहीं कह सकते। क्योंकि एसआईटी में भी यही पुलिस होती है। सीबीआई में भी यही होते हैं। अब तो सीबीआई ही निष्पक्ष नहीं है, ऐसा कहा जा रहा है।

आजम ने यह भी कहा कि वायरल विडियो के आधार पर शिनाख्त करने वाले और जो जुमले इस्तेमाल हुए हैं, सबकी जांच होनी चाहिए। बता दें कि यहां आसपास के इलाके में मवेशियों के मांस के टुकड़े मिलने से हिंसा उपजी थी। हिंसा के दौरान जवाबी फायरिंग में इंस्पेक्टर के साथ एक स्थानीय युवक सुमित की भी जान चली गई।