देवरिया: नोटबंदी से व्यापार चैपट होजाने और कर्ज चुकता न कर पाने के कारण देवरिया के एक मुस्लिम व्यापारी ने धर्म परिवर्तन और आत्मह’त्या करने की चेतावनी दी है। जिसके चलते जिला प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन में एसडीएम समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारी व्यापारी के घर पहुंचा और मदद का आश्वासन दिया।

NBT की रिपोर्ट के अनुसार, जिले के लार कस्बे स्थित शमशीर नगर निवासी बिस्किट व्यापारी एहतेशाम उर्फ पप्पू ने अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए लगभग 5 साल पहले बैंक से कर्ज लिया था। कर्ज लेने के बाद कुछ दिनों तक उनका व्यापार ठीक-ठाक चला और वह बैंक की किश्त भी समय से अदा करते रहे।

लेकिन नोटबंदी के बाद उसका कारोबार चैपट हो गया। स्थिति सुधारने की उन्होंने बहुत कोशिश की मगर हालात बिगड़ते गए और व्यापार ठप हो गया। नतीजतन वह बैंक की किश्त नहीं दे पाए और कर्ज की रकम बढ़ती गई।

माली हालत सही करने के लिए उन्होंने अपने परिचितों से भी कुछ पैसे उधार लिए, मगर फिर भी स्थिति में सुधार नहीं हुआ। वर्तमान में उनपर लगभग 25 लाख का कर्ज है, जिसमें बैंक का कर्ज भी शामिल है। बैंक के नोटिस और लोगों के ताने से परेशान उन्होंने अपने धर्म के कुछ लोगों से भी मदद की अपील की थी, मगर बात नहीं बनी।

इससे परेशान होकर उन्होंने हिंदू धर्म के लोगों से मदद मांगी और इसके एवज में धर्म परिवर्तन की बात कही।  लेकिन जब कहीं से भी मदद नहीं मिली तो एहतेशाम ने आत्महत्या की करने की सोची है।

एहतेशाम की चेतावनी की खबर फैलते ही जिला प्रशासन कान खड़े हो गए। आनन-फानन में एसडीएम, तहसीलदार समेत पूरा प्रशासनिक अमला उनके घर पहुंचा और सच्चाई जानने में जुट गया। एसडीएम शशिभूषण ने बताया, ‘हम व्यापारी के घर गए थे। सच्चाई जानने का प्रयास किया जा रहा है। प्रशासनिक स्तर पर जो भी संभव होगा, मदद की जाएगी।’