सरकार की आलोचना पर बीच कार्यक्रम में रोका, अमोल पालेकर बोले – देश में असहिष्णुता है

0
24

नई दिल्ली मशहूर फिल्म और थिअटर अभिनेता अमोल पालेकर शनिवार को मुंबई के नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (NGMA) में गेस्ट के तौर स्पीच दे रहे थे तो उन्हें इसलिए रोक दिया गया, क्योंकि उन्होंने सरकार की आलोचना की। इसका वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो गया है।

अमोल पालेकर मशहूर आर्टिस्ट प्रभाकर बारवे के स्मरण में आयोजित प्रदर्शनी के दौरान ‘इनसाइड द इम्पटी बॉक्स’ टॉपिक पर बोल रहे थे। इसी दौरान जब उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर के खिलाफ कुछ बातें कहना शुरू ही किया था कि उन्हें रोक दिया गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। अमोल पालेकर एनजीएमए (NGMA) के मुंबई और बैंगलोर केंद्रों की एडवाइजरी समिति को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की आलोचना किया था। पालेकर ने इसके विरोध में रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि देश-समाज में निश्चित तौर पर असहिष्णुता है।

अमोल पालेकर ने कहा, ‘डायरेक्टर वहां मौजूद थीं और उन्होंने कहा कि अपनी बात रखने से पहले उन्हें सारी बात बतानी चाहिए थी। मैंने उन्हें जवाब में कहा कि क्या लेक्चर देने से पहले मेरा भाषण सेंसर किया जाता।’ पालेकर ने यह भी कहा कि ‘मैं संस्कृति मंत्रालय को ऐसी प्रदर्शनी आयोजित करने के लिए धन्यवाद देने वाला था, लेकिन उन्होंने (निदेशक) कहा कि ऐसी किसी तारीफ की उन्हें जरूरत नहीं है और चली गईं।’

पालेकर ने कहा कि उन्हें बोलने से पहले आयोजकों को बताना चाहिए था कि क्या बोलना है और क्या नहीं। पालेकर ने कहा, ‘मैंने लेक्चर में एनजीएमए के उन नियमों की बात की जिन्हें बदल दिया गया है। ये कहना कि मैंने मुद्दे से हटकर बात की, पूरी तरह गलत है। मुंबई के दो आर्टिस्ट की प्रदर्शनी एनजीएमए में दिखाई जानी थी। इसकी इजाजत भी दे गई थी और तारीख भी तय थी लेकिन अब महली और पटवर्धन को मिली इजाजत वापस ले ली गई है। उन्हें बता दिया गया है कि वे अपनी प्रदर्शनी नहीं लगा पाएंगे।’

पालेकर ने सवाल उठाते हुए पूछा, ‘मेरा कहना है कि इस गैलरी में सिर्फ एनजीएमए को ही सिर्फ क्यों इजाजत मिल रही है? मैंने यह मुद्दा लोगों के सामने रखने का सोचा लेकिन मुझे रोक दिया गया. इसने मुझे बहुत आहत किया और मैं पूछना चाहता हूं कि अगर हम एनजीएमए में कुछ नहीं बोलेंगे तो कहां बोल पाएंगे? आयोजक बोल सकते हैं कि एनजीएमए सरकारी गैलरी है, तब मेरा सवाल है कि ऐसी आर्टी गैलरी बनाने के लिए जनता का पैसा क्यों लगता है।’ पालेकर ने कहा कि मैंने लेक्चर पूरा कर लिया, लेकिन मुझे उसके कुछ अंश हटाने पड़े।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें