जम्मू – कश्मीर के बारामूला जिले में सेना की भर्ती रैली में बर्फबारी और बारिश के बावजूद कश्मीर के 2500 से युवकों ने हिस्सा लिया. अधिकारियों ने बताया कि घाटी के उत्तरी जिलों से बड़ी संख्या में युवक भर्ती रैली में आए.

रक्षा अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि यह भर्ती अभियान मंगलवार को गंटामुला सेना शिविर में आयोजित किया गया था. यह अभियान पुलवामा में आतंकी हमले के सिर्फ पांच दिन बाद आयोजित किया गया है. इस हमले में अर्द्धसैनिक बल के 40 जवान शहीद हो गए थे.

111 पदों के लिए हो रही इस भर्ती में पहुंचे बिलाल अहमद ने कहा- हमें परिवार ओर देश की सेवा का मौका मिलेगा, कोई और क्या चाह सकता है? ध्यान रहे बारामूला जम्मू-कश्मीर का पहला आतंक मुक्त जिला है। 23 जनवरी 2019 को बारामूला में तीन आतंकियों को मारा गया था. इसके बाद पुलिस ने इसे आतंकवादियों से मुक्त जिला घोषित किया था. इससे पहले यह जिला हिजबुल मुजाहिदीन का गढ़ कहा जाता था.

सेना ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में कश्मीरी युवक आए. बारामूला के गंटामुला में यह भर्ती अभियान आयोजित किया गया था. देशभक्ति का जज्बा, सेना में बेहतर जीवन और करियर का एक विचार कश्मीरी युवाओं को आकर्षित करता है.’