नमाज पढ़ने से रोकने पर प्रदर्शन, कहा – भाजपा सरकार करे तिलक-टोपी की राजनीति बंद

0
78

लखनऊ। मस्जिद में असामाजिक तत्वों द्वारा नमाज पढ़ने से रोकने की कोशिश के मामले को लेकर रविवार को तहफ्फुज मसाजिद, मदारिस, दरगाह व कब्रस्तान कमेटी के तत्वाधान में कई राजनैतिक व सामाजिक संगठनों ने राजधानी में अंबेडकर प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए राष्ट्रीय भागीदारी आंदोलन के संयोजक पीसी कुरील ने कहा कि देश आजाद होने के बाद संविधान ने भारत में रहने वाले हर धर्म और जाति के लोगों को समान अधिकार दिया है। इधर कुछ समय से ऐसा देखने में आ रहा है कि धार्मिक स्थलों पर कब्जा करने की साजिश रची जा रही है।

उन्होंने कहा, “अभी ताजा मामला निजामुद्दीन देहली में लाल मस्जिद का सामने आया है, आजमगढ़ की मस्जिद में भी असामाजिक तत्वों ने नमाज पढ़ने से रोकने की कोशिश की। इसलिए हम लोग धरना कर विरोध जता रहे हैं।”

इसी क्रम में कमेटी के अध्यक्ष हाजी फहीम सिद्दीकी ने कहा कि दुनिया जानती है कि कोई भी मस्जिद गैर कानूनी स्थल पर नहीं बनती और अगर सरकार किसी धार्मिक स्थल के लिए ऐसा निर्णय ले रही है तो अदालत को चाहिए कि वह सर्वे कराए कि देश में कहां कितने अवैध रूप से पूजा स्थल बने हैं, उन सभी को तोड़ा जाए। इंसाफ सबके लिए बराबर होना चाहिए, वरना यह भारतीय स्ंविधान का मजाक उड़ाने के बराबर होगा।

सिद्दीकी ने कहा, ‘हम राष्ट्रपति को ज्ञापन देकर इस मामले को अवगत कराएंगे। कई स्थानों पर नमाज पढ़ने पर रोक लगाई जा रही है, मदरसों को भी निशाना बनाया जा रहा है। कब्रिस्‍तान की जमीनों पर कब्जा करने की साजिश रची जा रही है। इस तरह की हरकतों को राष्ट्रपति अपने संज्ञान में लें और अंकुश लगाएं।’

वहीं, मुहम्मद आफाक ने कहा कि जब से बीजेपी सरकार केंद्र और उत्‍तर प्रदेश में आई है, तब से धार्मिक उन्माद फैलाकर हिंदू-मुस्लिम के बीच नफरत और धर्म-जाति की राजनीति कर रही है। बजरंग दल, आरएसएस और हिंदू युवा वाहिनी के गुंडे कब्रिस्तानों और मस्जिदों पर कब्जा करने की मुहिम चला रहे हैं। इनके आका अपने भाषणों में ‘सबका साथ सबका विकास’ की रट लगाकर जनता को बेवकूफ बनाने में लगे हुए हैं। इन सबको इस लोकतांत्रिक भारत देश में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बीजेपी सरकार नफरत और तिलक-टोपी की राजनीति करना बंद करे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें