मेरठ: अतिक्रमण हटाने को लेकर बवाल – 200 झुग्गियों और धार्मिक स्थल में लगी आग

0
267

मेरठ. थाना सदर बाजार के भूसा मंडी क्षेत्र में बुधवार को अतिक्रमण हटाने को लेकर पुलिस व लोगों के बीच हुई नोकझोंक और हाथापाई ने हिंसा का रूप ले लिया। इस दौरान करीब 200 झुग्गियां जलकर खाक हो गईं। झुग्गियों में रखे गए सिलेंडर भी आग के चपेट में आ गए जिसके बाद आग और भयावह हो गई और इसके चपेट में धर्मस्थल भी आ गया।

शहर के भूसा मंडी क्षेत्र में बुधवार को पुलिस फोर्स के साथ अतिक्रमण हटाया जा रहा था। बेगमपुल से अतिक्रमण हटाते हुए टीम जब थाना सदर बाजार के भूसा मंडी क्षेत्र में पहुंची तो यहां लोगों ने विरोध कर दिया। आरोप है कि, इसी दौरान यहां कुछ झोपड़ियों में आग लग गई, जिससे मौके पर अफरा-तफरी मच गई। जिस समय आग लगी उस समय झोपड़ियों के अंदर लोग मौजूद थे। आग लगते ही मौके पर भगदड़ मच गई।

बताया जा रहा है कि आग से झोपड़ियों में रखे सिलेंडर भी फटने लगे। आग बुझाने के लिए मौके की ओर दौड़े। स्थानीय लोगों का आरोप है कि कैंट बोर्ड के अधिकारियों ने पुलिस की देख-रेख में झुग्गियों में आग लगाई है। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। बस्ती में मौजूद 100 से ज्यादा झुग्गी-झोपड़ी और मकान आग की चपेट में आ गए। घरों में रखे कई सिलेंडर तेज आवाज से फट गए। इससे भगदड़ मच गई। घरों में बंधे कई पालतू पशु जलकर मर गए। उसके बाद भीड़ ने पुलिस और अन्य बाहरी लोगों को बस्ती में नहीं घुसने दिया। भीड़ आग लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगी जबकि पुलिस ने बताया कि अतिक्रमण की कार्रवाई रोकने के लिए भीड़ में ही कुछ युवकों ने कूड़े में आग लगाई थी।

बाद में डीएम और एसएसपी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। स्थिति को संभाला लेकिन अभी भी तनाव बना हुआ हैं। डीएम अनिल ढींगरा का कहना है कि स्थिति नियंत्रण में हैं और सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आसपास के जिलों से दमकल वाहन बुलाकर आग पर काबू किया जा रहा है। घटना के लिए जांच टीम गठित कर दी है। एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार का कहना है कि मेरठ की घटना एक हादसा है। अफसर मौके पर स्थिति पर नियंत्रण रखे है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें