गुड़गांव हादसे के बाद मुस्लिम परिवार करेगा पलायन, बोले – दुबारा हो सकता है हमला

0
68

15 साल पहले उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के पांची गांव से गुड़गांव रहने आए मोहम्मद साजिद कहते है – ”मैं ये घर छोड़ कर चला जाऊंगा. मैं अपने गांव चला जाऊंगा. मेरे सामने मेरे छोटे-छोटे बच्चों को मारा और मैं उनको पिटता हुआ देखता रहा. मैं कुछ नहीं कर सका, मैं यहां नहीं रहना चाहता. इस मकान के लिए मैंने लोगों से कर्ज़ लिया है लेकिन मैं अब डर के साथ सारी उम्र नहीं जीना चाहता.”

बता दें कि 21 मार्च को देश होली के दिन 20-25 लोगों के झुंड ने घर में घुसकर रॉड, तलवार  व लठियों से मारपीट की थी। इन लोगों ने घर में मौजूद साजिद, दिलशाद, समीर, शादाब सहित 12 लोगों को पीट-पीट कर लहूलुहान कर दिया। इस घटना का दिलशाद के परिवार की एक युवती ने वीडियो बना ‌लिया, जो बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

इस वीडियो में कुछ लोगों का एक ग्रुप एक शख्स को रॉड व डंडों से पीटता नजर आ रहा है। वहीं, दूसरा युवक एक कोने में पड़ा हुआ था। उस दौरान 2 महिलाएं हमलावरों से रुकने की गुहार लगा रही थीं। उन्होंने आरोपियों से कहा, ‘‘आप हमारे घर में क्यों आ रहे हो? हमारे छोटे-छोटे बच्चे हैं। बच्चों को मत पीटो।’’

इस घटना में दिलशाद के बाएं हाथ में फ्रैक्चर हुआ है। उसने दावा किया कि यह बेवजह किया गया हमला था। वे लोग कह रहे हैं कि हमने उनसे बुरा-भला कहा था, जो कि गलत है। हम उन लोगों के साथ लड़ ही नहीं सकते। वे काफी ताकतवर हैं और उनके पास काफी जमीन है। हम गरीब हैं और हमारे पास छोटे मकान हैं। हम उनसे कैसे लड़ सकते हैं?

दिलशाद ने कहा, ‘‘जो लोग सोचते हैं कि हमने कुछ कहा था, क्या वे यह भी सोचते हैं कि हमारे बच्चों को पीटना उचित था? जब यह घटना हुई तो मेरा बेटा बेड के नीचे छिप गया था, लेकिन उन्होंने मेरी 4 साल की भतीजी को थप्पड़ मारे और एक साल की भतीजी को बिस्तर पर फेंक दिया। अगले दिन सुबह मेरा बेटा डरकर जागा और रोने लगा। उसे लग रहा था कि वे लोग दोबारा आएंगे और हमें पीटेंगे। मैं उससे क्या कहूं?’’

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में अब तक छह युवकों को गिरफ्तार किया है। लेकिन अभी उनकी पहचान उजागर नहीं की गई है क्योंकि पुलिस और गिरफ्तारियों के लिए प्रयास कर रही है। सिर्फ एक गिरफ्तारी की बात कहना गलत है। उन्होंने बताया कि क्रिकेट खेलने को लेकर हुए विवाद के बाद मेवात के गुर्जर युवकों ने दिलशाद के परिवार पर हमला किया था। हमलावरों में कुछ नाबालिग भी शामिल थे। यहां गुर्जर और अल्पसंख्यकों में पहले भी तनाव होता रहा है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें