मुसलमानों के खिलाफ उगला था जहर, अब आरएसएस नेता पर चलेगा मुकदमा

0
94

कर्नाटक सरकार ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक वरिष्ठ नेता के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी है, जिनके खिलाफ लगभग एक साल पहले अभद्र भाषा के मामले दर्ज किए गए थे।

चुनाव आयोग की एक शिकायत के आधार पर, मंगलोर पुलिस ने पिछले साल अप्रैल में कल्लादका प्रभाकर भट के खिलाफ मामला दर्ज किया था। जिसके बाद राज्य सरकार से उसके खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी थी। भाषण पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले दिया गया था।

भट, जो अपने सांप्रदायिक बयानो के लिए जाना जाता है, को आईपीसी की धारा 153 ए और जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 के तहत दर्ज किया गया था, जो धर्म और जाति के आधार पर लोगों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने से संबंधित है। इन धाराओं के तहत अभियोजन शुरू करने के लिए राज्य सरकार की मंजूरी की आवश्यकता होती है, जिसमें अधिकतम तीन साल जेल की सजा होती है।

कुछ दिन पहले सरकार की मंजूरी मिलने के बाद, पुलिस ने तुरंत मामले में चार्जशीट दायर की, जिसे अब दक्षिण कन्नड़ की एक जिला अदालत में दायर किया जाएगा।  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता भाट श्री रामचंद्रपुरा मठ द्वारा संचालित आश्रय से गायों की कथित चोरी पर प्रदर्शनकारियों को संबोधित कर रहे थे। भट ने तत्कालीन कांग्रेस राज्य सरकार पर हिंदू संस्कृति को “नष्ट” करने का आरोप लगाया था।

भट ने हिंदू मंदिरों में होने वाले कार्यक्रमों में आमंत्रित किए जाने वाले मुस्लिम मंत्रियों के विरोध का विरोध किया था। भट को एक वीडियो क्लिप में सुना गया, “पुजारी ने अपना दिमाग खो दिया है कि उसने बुलिया (एक थाली पर सुपारी के साथ एक औपचारिक स्वागत) के साथ उसका स्वागत किया?”

उन्होंने विधानसभा चुनाव के लिए लागू आदर्श आचार संहिता का मजाक उड़ाया था। उन्होंने कहा था। “बस आदर्श आचार संहिता की उपेक्षा करें। उस समिति के पास कोई नैतिकता नहीं है।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें