टिकट नहीं मिलने पर शाहनवाज का छलका दर्द, बोले – जेडीयू ने छिन ली मेरी सीट

0
125

टिकट नहीं मिलने से केंद्रीय मंत्री तथा भागलपुर से बीजेपी सांसद रह चुके शाहनवाज हुसैन का भी दर्द छलकने लगा है। उन्होंने इसके लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व उनकी पार्टी जदयू को जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि बिहार एनडीए में सीट बंटवारे के फॉर्म्युले के तहत यह सीट इस बार जेडीयू के खाते में गई है।

बीजेपी प्रवक्ता ने शनिवार को टिकट कटने के बाद एक के बाद एक कई ट्वीट करके अपनी नाराजगी जाहिर की। शाहनवाज ने ट्वीट में लिखा, ‘इस बार मैं भागलपुर से नहीं लड़ पाऊंगा। सूबे में इस बार बीजेपी के 6 वर्तमान सांसदों की सीटें एनडीए सहयोगी के तौर पर नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के हिस्से में गई हैं। इसके बावजूद मैं लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत के लिए कड़ी मेहनत करूंगा।’ इसके साथ ही शाहनवाज ने एक अलग ट्वीट में भागलपुर के लोगों से वादा किया है कि वह भले ही यहां से चुनाव नहीं लड़ रहे लेकिन यहां की जनता और उनके हितों के लिए हमेशा उनके साथ खड़े रहेंगे।

एक अन्य टवीट में उन्होंने लिखा है- ‘भागलपुर की जनता के प्यार और स्नेह को मैं कभी भूल नहीं सकता। मैं हमेशा वहां की जनता के साथ खड़ा रहा हूं। आगे भी साथ रहूंगा।’ उन्होंने कहा- ‘मेरी पार्टी ने हमेशा हम पर भरोसा किया। इससे पहले के छह लोकसभा चुनावों में मुझे उम्मीदवार बनाया। इस बार चुनाव नहीं लड़ रहा, लेकिन नरेंद्र मोदी को एक बार फिर इस महान देश का प्रधानमंत्री बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ूंगा।’ उन्होंने लिखा कि ‘मुझे भाजपा के कार्यकर्ताओं, वरिष्ठ नेताओं और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का स्नेह मिलता रहेगा।’

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक शाहनवाज हुसैन और बक्सर से सांसद अश्विनी चौबे के बीच प्रतिद्वंद्विता के कारण भी पार्टी ने यह कदम उठाया है। बिहार में शाहनवाज दूसरे बड़े नेता थे, जिन्होंने एनडीए सहयोगियों में सीट बंटवारे को लेकर नाखुशी जाहिर की थी। बता दें कि 2014 में मोदी लहर के बावजूद शाहनवाज भागलपुर से लोकसभा चुनाव हार गए थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें