मुस्लिम उलेमाओं का बड़ा फैसला – दहेज ना लेने वाले दूल्हों को किया जाएगा सम्मानित

0
35

मुरादाबाद में मुस्लिम धर्मगुरुओ ने दहेज के खिलाफ बड़ा कदम उठाते हुए मुस्लिम धर्मगुरुओ ने निकाह में दहेज ना लेने वाले दूल्हों को सम्मानित करने का फैसला लिया है। इतना ही मुस्लिम धर्मगुरु गांव-गांव मे अभियान चलाकर लोगो से दहेज ना लेने की अपील करने के साथ निकाह में फिजूलखर्ची को बंद करने का आह्वान भी कर रहे है।

 पहल की शुरुआत करने वाले सुन्नी एवं काउंसलिंग ऑफ इंडिया के चेयरमैन मोहम्मद इमरान हनफी के मुताबिक मुस्लिम समुदाय में कई गरीब परिवारों की लड़कियों की उम्र 25 से 40 साल की हो गई है। लेकिन दहेज नही होने के कारण उनका निकाह नहीं हो पा रहा है।

उन्होने बताया कि हर बेटी की सही समय पर शादी और बिना दहेज को हो इसको लेकर सुननी इमाम काउंसलिंग के द्वारा लगातार देहात क्षेत्रों में युवाओं को दहेज नही लेने की अपील की जा रही है। साथ ही ऐसे दूल्हों को सम्मानित करने का फैसला भी लिया गया है जो बिना दहेज निकाह करेंगे।

उलेमाओं की इस अनोखी पहल के अब सकारात्मक परिणाम भी सामने आने लगे है । सकारात्मक पहल से प्रेरित होकर अब स्थानीय युवा धर्मगुरुओं के इस अभियान को चला रहे हैं और खुद भी अपने निकाह में दहेज ना लेने की बात कह रहे है।

बता दें कि इस्लाम में मुंह से दहेज मांगना गुनाह करार दिया गया है। साथ ही फिजूलखर्ची को भी बुरा बताया गया है। ऐसे में इस पहल की प्रशंसा वाजिब है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें