उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर लोकसभा सीट से इस बार बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर उतरी मेनका गांधी द्वारा वोट के लिए मुसलमानों को धमकाने का मामला सामने आया है।

शुक्रवार को वो उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रही मेनका ने कहा, मैं जीत रही हूं. लोगों की मदद और प्यार से मैं जीत रही हूं। लेकिन अगर मेरी जीत मुसलमानों के बिना होगी, तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा। क्योंकि इतना मैं बता देती हूं कि दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिए तो मैं सोचती हूं कि रहने दो, क्या फ़र्क पड़ता है।

आख़िर नौकरी एक सौदेबाज़ी भी तो होती है, बात सही है कि नहीं। ये नहीं कि हम सब महात्मा गांधी की छठी औलाद हैं कि हम लोग देते ही जाएंगे, देते ही जाएंगे और फिर चुनावों में मार खाते जाएंगे। सही है बात कि नहीं। आपको ये पहचानना होगा। ये जीत आपके बिना भी होगी, आपके साथ भी होगी और ये चीज़ आपको सभी जगह फैलानी होगी। जब मैं दोस्ती का हाथ लेकर आई हूं। पीलीभीत में पूछ लें, एक भी बंदे से फ़ोन से पूछ लें कि मेनका गांधी वहां कैसे थीं। अगर आपको कहीं भी लगे कि हमसे गुस्ताख़ी हुई है, तो हमें वोट मत देना।

लेकिन अगर आपको लगे कि हम खुले हाथ, खुले दिल के साथ आए हैं। आपको लगे कि कल आपको मेरी ज़रूरत पड़ेगी. ये इलेक्शन तो मैं पार कर चुकी हूं। अब आपको मेरी ज़रूरत पड़ेगी। अब आपको ज़रूरत के लिए नींव डालनी है तो यही वक़्त है। जब आपके पॉलिंग बूथ का नतीजा आएगा और उस नतीजे में सौ वोट निकलेंगे या 50 वोट निकलेंगे और उसके बाद जब आप काम के लिए आएंगे तो वही होगा मेरा साथ…”

मेनका गांधी के अपनी इस बयान की वजह से सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रही हैं। इस वीडियो पर बॉलीवुड एक्टर और प्रोड्यूसर कमाल आर खान ने रिएक्शन देते हुए ट्वीटर पर लिखा है, ‘चुनाव आयोग क्या कर रहा है? वोट पाने के लिए वोटरों को इस तरह धमकाना क्या सही है? यह डेमोक्रेसी है या गुंडागर्दी? हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई किसी को भी इस तरह के नेताओं को वोट नहीं देना चाहिए। प्लीज, इस तरह के भ्रष्ट नेताओं से डरना बंद करें।’