हेमंत करकरे पर साध्वी प्रज्ञा के बयान को शंकराचार्य ने बताया अपमानजनक

0
40

हेमंत करकरे की शहादत पर विवादित बयान देने वाली भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को लेकर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि हेमंत करकरे पर बयान अनुचित है। ये बयान शहीदों का अपमान है। देश के प्रति उनकी मनोवृत्ति नहीं।

उन्होने कहा कि अगर महिषासुर मर्दनी हैं तो दिग्विजय सिंह को भी श्राप देकर मार दीजिए। पर्चा ही ना भर पाएं।शंकराचार्य का ये बयान भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने नामांकन से पहले आया है। जब वे शंकराचार्य के पास आशीर्वाद लेने पहुंचे थे।

उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव में गाली गलौज नहीं होना चाहिए। महिषासुर जैसी भाषा का चुनाव लोकतंत्र का सूचक नहीं। आप बताइए गौ मांस का भारत से निर्यात बंद होगा कि नहीं, नोटबंदी से हुआ नुक़सान कैसे पूरा होगा। किसान की ख़ुदकुशी कैसे रूकेगी। नर्मदा गंगा कैसे संरक्षण होगा।

वहीं शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि दिग्विजय सिंह की भक्ति है, जो सच्चे हृदय से आता है उसकी मनोकामना पूरी होती है। साध्वी साधु होते है उनके नाम के आगे गिरि, पुरी, सागर लगता है ठाकुर नही।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने मुंबई हमले में शहीद पुलिसकर्मी हेमन्त करकरे की शहादत का अपमान करते हुए कहा  कि हेमंत ने मुझे गलत तरिके से फंसाया था, मैंने कहा था कि तुम्हारा पूरा वंश खत्म हो जाएगा। वो अपने कर्मों की वजह से मरें हैं। साध्वी प्रज्ञा साल 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट में आरोपी हैं और फिलहाल जमानत पर जेल से बाहर हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें