राजस्थान के अलवर जिले में थानागाजी इलाके में एक दलित महिला से गैंगरेप के मामले में अब तक दो आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। अन्य आरोपियों की तलाश जारी है। राज्य सरकार ने मंगलवार की रात एसपी को हटाने का आदेश जारी कर दिया।

प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव स्वरूप ने कहा कि एसपी को अगले आदेश तक छुट्टी पर रहने के लिए कहा गया है। थानागाज़ी पुलिस स्टेशन के दो एसएचओ को पहले ही हटा दिया गया। प्रदेश सरकार ने पीड़िता को 4.12 लाख की आर्थिक मदद मुहैया कराई है।

इस बीच पीड़‍िता ने पुलिस को दिए बयान में अपने साथ हुई दरिंदगी का जो बयां किया है, वह रोंगटे खड़े कर देने वाला है। उसने बताया कि कैसे तीन घंटों तक उसके साथ दरिंदगी होती रही, उसे और उसके पति को पीटा गया और उनके कपड़े फाड़ दिए गए। आरोपियों ने उनके पास से पैसे भी छीन लिए और घटना का वीडियो भी बनाया, जिसे सोशल मीडिया पर अपलोड नहीं करने के लिए उन्‍होंने उनसे फिरौती भी मांगी। उन्‍होंने पैसे दिए भी, इसके बावजूद आरोपियों ने घटना का एक वीडियो और कुछ आपत्तिजनक तस्‍वीरें व्‍हाट्स एप ग्रुप पर शेयर कर दीं, जो देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं।

महिला ने पुलिस को दिए अपने बयान में कहा है कि 26 अप्रैल को दोपहर के वक्‍त जब वह पति के साथ बाइक से खरीदारी के लिए जा रही थी, तभी थानागाजी के पास कुछ लोगों ने उन्‍हें रोक लिया। वे परिवार में ही होने वाली एक शादी की शॉपिंग के लिए जा रहे थे, जब उनके साथ जीवनभर का सदमा दे जाने वाली यह वारदात हुई। मोटरसाइकिल पर सवार पांच लोगों ने उन्‍हें जबरन रोका और खींचकर पास के रेत के टीले पर ले गए, जहां दो लोगों ने उसके पति को बंधक बना लिया और उसे पीटते रहे, जबकि तीन अन्‍य ने महिला के साथ बारी-बारी से दुष्‍कर्म किया। बाद में उन दोनों ने भी उसके साथ रेप किया। इस दौरान दरिंदों ने महिला की भी बुरी तरह पिटाई की। उसने जितना उनके चंगुल से निकलने की कोशिश की, वे उस पर उतना ही जुल्‍म ढाते रहे। इस बीच उन्‍होंने दंपति की बाइक को एक गड्ढ़े में धक्‍का देकर लुढका दिया था।

इतना ही नहीं, आरोपियों ने इस घृणित वारदात का वीडियो भी बना लिया था, जिसे सोशल मीडिया पर अपलोड कर देने की धमकी देते हुए उन्‍होंने दंपति से फिरौती की भी मांग की। वीडियो डिलीट करने की बात पर महिला के पति ने उन्‍हें कुछ पैसे भी दिए, लेकिन जब आरोपियों ने दूसरी बार पैसे की मांग की तो उन्‍होंने पुलिस से संपर्क साधा, जिसके बाद मामला सामने आया।

पुलिस के अनुसार इस घटना में इंद्राज गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके अलावा छोटे लाल, महेश गुर्जर, हंसराज और अशोक को भी नामज़द किया गया है। पुलिस ने इन चारों की गिरफ़्तारी के लिए 14 टीमें गठित कर तलाश तेज कर दी है।