ईरान ने दी अमेरिकी जहाजों को निशाना बनाने की चेतावनी

0
374

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उम्मीद जतायी कि अमेरिका ईरान के साथ युद्ध के रास्ते पर नहीं बढ़ रहा है। ट्रंप ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘‘मुझे ऐसी उम्मीद नहीं है।’’ उन्होंने एक दिन पहले ही बातचीत की इच्छा जाहिर करते हुए ट्वीट किया था, ‘‘मैं आश्वस्त हूं कि ईरान जल्द ही बातचीत करना चाहेगा।’’

इसी बीच ईरान की और से कडा बयान आया है। ईरान ने कहा है कि वह आसानी से खाड़ी देशों में अमेरिकी जहाजों को निशाना बना सकता है। हाल के दिनों में वॉशिंगटन और तेहरान के बीच तनाव अपने चरम पर है। ईरान के राजनयिक लगातार कोशिश कर रहे हैं कि किस तरह से अमेरिकी प्रतिबंधों को खारिज किया जाए और न्यूक्लियर डील के मामले में अमेरिका के विरोध को कम कराया जाए।

फार्स न्यूज एजेंसी को दिए गए एक बयान में ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) के डिप्टी कमांडर सलेह जोकर ने कहा, ‘हमारी कम दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें भी अमेरिकी युद्धपोतों को खाड़ी के देशों में आसानी से निशाना बना सकती हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अमेरिका एक नया युद्ध नहीं झेल सकता। सामाजिक और मानव संसाधनों के लिहाज से अमेरिका की स्थिति बुरी है।

अमेरिका के आर्थिक प्रतिबंधों पर ईरान का मानना है कि वॉशिंगटन केवल आर्थिक प्रतिबंधों को बढ़ा रहा है कि खाड़ी के देशों में अपनी सैन्य हिस्सेदारी को बढ़ा सके। अमेरिका ईरान पर संयुक्त राष्ट्र पर हमले का हवाला देकर वैश्विक दबाव बढ़ाने के प्रयास में है। तेहरान का कहना है कि अमरिका का यह कदम केवल मनोवैज्ञानिक रूप से लाभ लेने और राजनीतिक बयानबाजी के लिए है।

ईरान के सेना प्रमुख मेजर जनरल अब्दुलरहीम मौसवी ने कहा है, ‘अगर दुश्मन देश हमारी ताकतों के बारे में गलत अंदाजा लगाता है तो यह उसकी रणनीतिक भूल साबित होने वाली है। हम ऐसा जवाब देंगे जिससे उन्हें अफसोस होगा।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें