लोकसभा चुनाव में जीत हासिल होने के बाद गठबंधन के प्रत्याशी आजम खान ने शुक्रवार को कहा कि अगर उन्हें सभी धर्मों का वोट नहीं मिला होगा तो वह आज से आठवें दिन लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे।

आजम खान ने दावा किया, ‘मुझे हर वर्ग और हर जाति का वोट मिला है। अगर किसी को इसकी तस्दीक करनी है तो उन्होंने जिन बूथों पर जीत हासिल की है, वहां से इसका पता लगा सकते हैं।’ रामपुर मंडी समिति में जीत का प्रमाणपत्र हासिल करने पहुंचे आजम खां ने कहा कि देश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जो जिम्मेदारी सौंपी है उसे पूरी तरह से निभाएंगे।

मोदी सरकार को बहुमत मिलने के सवाल पर कहा कि जनता ने उन पर विश्वास जताया है। एक प्रधानमंत्री की जो जिम्मेदारी होनी चाहिए उसे वह पूरी तरह से निभाएंगे। बहुमत की कद्र करेंगे। उसके बोझ को महसूस करते अपने दायित्व को निभाएंगे। एक खास वर्ग के लोगों में जो मायूसी से उसे दूर करेंगे। स्कूल-कालेज की दीवार नहीं तोड़ेंगे और यूनिवर्सिटी में ताला नहीं डलवाएंगे। यूपी में गठबंधन को सीटें कम मिलने पर कहा कि यह मंथन का विषय है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में गठबंधन की हवा नहीं चली, यह तो मंथन का विषय है। उन्होंने कहा, ‘यकीनन इस पर विचार होना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि हमारी पार्टी के सीनियर लोग बैठेंगे और इस पर विचार करेंगे।’ एसपी नेता ने कहा कि इस चुनाव में मेरे साथ अन्याय हुआ है। अन्याय नहीं होता तो मेरी लीड तीन लाख की होती।

बीजेपी की प्रत्याशी जया प्रदा पर आजम खान ने कहा कि हमने चुनाव में किसी का नाम नहीं लिया। हमें इस बात की शिकायत है कि मीडिया और हमारे राजनीतिक विरोधियों ने हम पर घटिया इल्जाम लगाए। आप को बता दें कि आजम खां को साढ़े पांच लाख लाख से अधिक वोट हासिल हुए हैं, जबकि जयाप्रदा को लगभग साढ़े चार लाख वोट पर संतोष करना पड़ा है।