स्मृति ईरानी के सहयोगी की ह’त्या आपसी रंजिश की वजह से हुई: ओपी सिंह

0
291

अमेठी में पूर्व प्रधान और स्थानीय बीजेपी नेता सुरेंद्र सिंह की हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को कहा कि सुरेंद्र सिंह की हत्या उनके स्थानीय राजनीतिक विरोधियों ने की।

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी. सिंह ने कहा कि सबूत बताते हैं कि पीड़ित की स्थानीय दुश्मनी थी। एक आरोपी पंचायत चुनाव लड़ना चाहता था, लेकिन सिंह चुनाव लड़ने के इच्छुक एक अन्य व्यक्ति का समर्थन कर रहे थे। पुलिस ने पांच नामजदों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है।

वसीम, नसीम, गोलू और रामचंद्र को हत्या करने के जुर्म में, जबकि धर्मनाथ गुप्ता नामक पांचवें अभियुक्त पर बीजेपी नेता की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है। तीन अभियुक्तों को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया और पुलिस शेष दो अभियुक्तों की तलाश कर रही है।
बता दें कि सुरेंद्र सिंह को नवनिर्वाचित सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के करीबी माना जाता था। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने यह वारदात कार्यकर्ता के घर में घुसकर अंजाम दी। उस वक्त वह अपने घर में सो रहे थे।
वारदात से कुछ ही देर पहले वह स्मृति ईरानी की जीत का जश्न मनाकर लौटे थे। घर पहुंचने के बाद वह सो गए। ऐसे में कुछ बदमाश उनके घर में घुसे और उन्हें गोली मार दी। बीते लोकसभा चुनाव में सुरेंद्र सिंह ने स्मृति ईरानी के चुनाव प्रचार में बड़ा रोल निभाया था। सुरेंद्र सिंह का प्रभाव कई गांव में है जिसका फायदा स्मृति ईरानी को चुनाव प्रचार में मिला।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें