ईडी जाकिर नाइक के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस के लिए इंटरपोल के पास पहुंचा

0
107

धार्मिक कट्टरता फैलाने के आरोपित सलाफ़ी उपदेशक जाकिर नाईक के खिलाफ इंटरपोल का रेड कार्नर नोटिस जारी करवाने की कोशिशें तेज हो गई हैं। नाईक के खिलाफ मनी लांड्रिंग मामले में आरोपपत्र दाखिल करने के साथ ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अदालत से उसे भगोड़ा घोषित करने की अपील की है।

मुंबई की विशेष अदालत से गैर जमानती वारंट हासिल करने के बाद जांच एजेंसी की ओर से यह कार्रवाई की गई है। मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत एजेंसी ने जाकिर व अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था, जिस पर अदालत ने संज्ञान लिया था। अदालत ने मामले को 19 जून तक स्थगित किया है। अब ईडी को अदालत से वारंट मिलने की उम्मीद है।

वारंट मिलने के बाद उम्मीद है कि ईडी रेड कॉर्नर नोटिस के लिए इंटरपोल की ओर रुख करेगा। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि रेड कार्नर नोटिस जारी कराने के लिए जाकिर नाइक को अदालत से भगोड़ा घोषित कराना जरूरी है। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इंटरपोल से रेड कार्नर नोटिस जारी होने के बाद नाइक को भारत को सौंपने के लिए कूटनीतिक दबाव बनाया जाएगा।

ईडी के आरोपपत्र के अनुसार जाकिर नाइक के अधिकांश विवादित भाषण 2007 से 2011 के बीच 10 दिन के पीस कांफ्रेंस के दौरान दिये गए थे। इसका आयोजन इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आइआरएफ) करता था। इन भाषणों को रिकार्ड कर एडिट करने का अधिकार के लिए उसने हारमनी मीडिया के नाम से अलग कंपनी बना रखी थी। हारमनी मीडिया इन भाषणों को दुबई के ग्लोबल ब्रॉडकास्ट कॉॅरपोरेशन नाम कंपनी को बेचता था, जो जाकिर नाइक की ही दूसरी कंपनी थी।

इसके बाद इन भाषणों का डीवीडी बनाकर आम जनता में बांटा जाता था। ईडी की जांच से पता चला कि पीस कांफ्रेंस आयोजित करने वाले आइआरएफ के पास 2003-04 से 2016-17 तक दुबई से 64.86 करोड़ रुपये आए थे, जिनके स्रोत संदिग्ध हैं। इसके साथ ही पीस कांफ्रेंस के दौरान लोगों से बड़ी मात्रा में दान करने की अपील की जाती थी। बाद में इस धन को अलग-अलग निवेश किया जाता था। ईडी ने इस पैसे से चेन्नई में 6.2 करोड़ की एक स्कूल बिल्डिंग खरीदने और 9.41 करोड़ रुपये म्यूचुअल फंड में निवेश करने के सुबूत मिले हैं। जाहिर है ईडी इन्हें जब्त कर चुका है।

2012 से 2016 के बीच जाकिर नाइक ने अपने दुबई के एकाउंट से मुंबई के निजी एकाउंट में 49.20 करोड़ रुपये ट्रांसफर किये, लेकिन दुबई में इस कमाई का स्रोत अज्ञात हैं। मनी लांड्रिंग के मार्फत आए धन से जाकिर नाइक मुंबई में पत्नी, बहन, बेटा, भतीजा के नाम पर करोड़ों रुपये की संपत्ति खरीदता रहा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें