बहादुरी का दूसरा नाम सीआरपीएफ हेड कॉन्स्टेबल खुर्शीद अहमद, 8 गो’लि’यां खाकर

0
1506

25 जून 2017 को आतं’कियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हम’ला किया था। इस हमले में 8 जवानों की मौत हो गई थी और 22 जवान घा’यल हो गए थे। इन घायलों में सीआरपीएफ के हेड कॉन्स्टेबल खुर्शीद अहमद भी शामिल थे। जिन्हे 8 गोलियां लगीं थीं।

गंभीर रूप से घायल अहमद 2 महीने तक आईसीयू में भर्ती रहे उसके बाद उन्हें एम्स के ट्रॉमा सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया, जहां उनकी तबीयत में सुधार होने लगा। वो अब एक बार फिर से देश की सेवा के लिए काम पर लौटने को हैं तैयार।

वे दो महीने तक आईसीयू में रहे। इसके बाद उन्हें एम्स के ट्रॉमा सेंटर में शिफ्ट किया गया। यहां पहुंचने के बाद उनकी हालत में थोड़ा सुधार होने लगा। वह धीरे-धीरे खड़े होने लगे। इसके बाद उन्होंने वॉकर की मदद से चलना भी शुरू किया। अब वह एक छड़ी की मदद से आराम से चल फिर लेते हैं। इतना ही खुर्शीद एक बार फिर से ड्यूटी कर रहे हैं।
वह ऑफिस में कर्मचारियों के ट्रांसफर, पोस्टिंग के साथ ही अन्य पेपरवर्क कर रहे हैं। खुर्शीद उन सभी लोगों को शुक्रिया अदा करते हैं जिन्होंने उन्हें फिर से अपने पैर पर खड़ा होने में मदद की। वे इस स्थिति से उबरने के लिए भगवान के साथ ही अपने परिवार के भी शुक्रगुजार हैं।

खुर्शीद कहते हैं कि सीआरपीएम कर्मियों के लिए यदि आपात स्थिति में एयर एंबुलेंस की व्यवस्था हो जाए तो इससे बल को बड़ी मदद मिलेगी। इससे जवानों के साथ ही अधिकारियों को तुरंत एयरलिफ्ट कर बेहतर इलाज मिल सकेगा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें