सी’रिया…..जहाँ शांति और सुकून ही नहीं, जीवन भी अनिश्चित है, जहाँ जीवन डर का पर्याय बन गया है. वहां जब-तब गिरते ब’मों के बीच जब लोग और कुछ पल जिंदगी की दुआ मांग रहे होते हैं, वहीँ, उसी वक्त उभरती है एक मासूम खिलखिलाहट, जो जिंदगी से लबरेज़ है.

सी’रिया से सामने आया है एक अनोखा मामला, जहाँ इद्लिब प्रांत में फंसे एक पिता ने लगातार हो रही ब’म बारी के बीच न केवल छोटी सी मासूम बेटी के डर को दूर किया, उसे खुश करने का भी एक नया तरीका खोज लिया. ये विडियो फॉर्मर जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी के दक्षिणी हट्टे प्रान्त के डिप्टी ने साझा किया है. इस विडियो में दोनों पापा-बेटी को ब’म गिरने की आवाज़ पर हँसते हुए देखा जा सकता है.

विडियो में दिख रहा है कि जैसे ही ब’म गिरने की आवाज़ होती है, पिता अब्दुल्ला मुहम्मद अपनी 4 वर्षीय बेटी सिल्वा से पूछता है कि क्या ये एक ब’म है? तो बेटी पिता की बात में हामी भरती है. इस पर पिता कहते हैं कि जब ये आएगा तब हम हँसेंगे. तभी वि’स्फो’ट की आवाज़ सुनाई देती है और दोनों पापा-बेटी हंसने लगते हैं.