2012 दिल्ली के बहुचर्चित निर्भया गैंगरे’प के’स में चारों दो’षियों मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय कुमार सिंह, पवन गुप्ता की फां’सी एक बार फिर से टल गई है. पटियाला हाउस को’र्ट ने सोमवार को दोषी पवन की याचिका पर फैसला सुनाते हुए अगले आदेश तक फां’सी रोकने का आदेश दिया है. इससे पहले 3 मार्च को फां’सी के लिए तिहा’ड़ जे’ल प्र’शासन ने तैयारी पूरी कर ली थी. तिहा’ड़ जे’ल के अधिकारियों ने बताया कि पवन जल्लाद ने ति’हाड़ में चारों दो’षियों को डमी के जरिए फां’सी का अभ्यास भी किया. हालांकि, अब को’र्ट ने चारों दो’षियों की फांसी पर रोक लगा दी है.

इससे पहले निर्भया के दो’षियों ने सोमवार को फां’सी के लिए तय तारीख से पहले सुप्रीम को’र्ट, पटियाला हाउस को’र्ट से लेकर राष्ट्रपति भवन तक खुद को बचाने के लिए हर संभव कोशिश की. सोमवार को पवन की क्यूरेटिव पिटीशन सुप्रीम को’र्ट ने खारिज कर दी, इसके साथ ही पटियाला हाउस को’र्ट ने डे’थ वॉ’रंट पर रोक लगाने की दो’षी अक्षय की याचिका भी खारिज कर दी. हालांकि, दो’षियों के वकील एपी सिंह ने सोमवार दोपहर में पवन की ओर से डे’थ वॉ’रंट पर रोक लगाने के लिए पटियाला हाउस को’र्ट में अर्जी लगाई, जिस पर को’र्ट ने फैसला सुनाते हुए अगले आदेश तक फां’सी पर रोक लगा दी.

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने यह फैसला सुनाया. उन्होंने कहा कि जब तक किसी दो’षी के पास का’नूनी विकल्प मौजूद है तब तक उसे फां’सी नहीं दी जा सकती. इसके अलावा फां’सी टलने का एक और मुख्य कारण यह रहा कि दो’षियों में से एक की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है, जिसके बाद डे’थ वां’रट पर रोक लगा दी गई है. अदा’लत ने कहा, ‘यह निर्देश दिया गया है कि सभी दो’षियों के खि’लाफ तीन मार्च के लिए निर्धारित मौ’त के वा’रंट को अगले आदेश तक के लिए टाल दिया जाए.’

ऐसा लगातार तीसरी बार हुआ है जब निर्भया के दो’षियों की फां’सी टाली गई है. कोर्ट ने फां’सी पर रोक लगाते हुए कहा कि ऐसे में जब पवन कुमार गुप्ता की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित है, फां’सी नहीं दी जा सकती. फां’सी टलने के बाद निर्भया की मां आशा देवी सिस्टम पर जम कर बरसीं. उन्होंने कहा कि अदा’लत आखिर दो’षियों को फां’सी देने के अपने ही आदेश का पालन करने में इतना वक्‍त क्‍यों लगा रही है. फां’सी का बार-बार टलना हमारे सिस्‍टम की नाकामी को दिखाता है. हमारा पूरा सिस्‍टम अपरा’धियों को संरक्षण देता है.’

इससे पहले सुनवाई के दौरान पवन गुप्ता के वकील एपी सिंह ने कहा कि हमने पवन की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लगाई है. वकील ने यह दावा किया कि रिटायर्ड जस्टिस काटजू ने उनसे कहा है कि वह फां’सी रोकने के लिए राष्ट्रपति से मिलेंगे. एपी सिंह ने कहा कि जेल’ मैनुअल के हिसाब से अभी फांसी नहीं हो सकती. ‘सुनवाई के दौरान को’र्ट ने दो’षियों के वकील को कड़ी फट’कार भी लगाई. को’र्ट ने फटकार लगाते हुए कहा, ‘आप आग से खेल रहे हैं, आपको सतर्क रहना चाहिए.’ कोर्ट ने वकील से कहा कि ‘एक गलत कदम किसी ने उठाया तो अंजाम आपको पता है.’