उन्नाव गैं’गरे’प के’स में पी’ड़िता के पिता की ह’त्या के दो’षी कुलदीप सिंह सेंगर को को’र्ट ने स’जा सुना दी है. दिल्ली की तीस ह’जारी को’र्ट ने इस मामले में सेंगर समेत सातों दो’षियों को 10 साल की स’जा सुनाई है. इसके साथ ही 10 लाख के जु’र्माने की स’जा भी सुनाई है. को’र्ट ने ये भी कहा जु’र्माने की ये रकम पी’ड़िता को दी जाएगी. पहले को’र्ट ने इस मामले में कुलदीप सिंह सेंगर समेत सात आरो’पियों को दो’षी क’रार दिया था, जबकि 4 लोगों को ब’री कर दिया गया था.

पी’ड़िता के पिता की मौ’त 9 अप्रैल, 2018 को पु’लिस हिरा’सत में हो गई थी. स’जा पाने वालों में दो यूपी पु’लिस के अधिकारी भी हैं. एक उस समय के माखी था’ना के एस’एचओ थे, वहीं दूसरा उस समय के माखी था’ना के सब इंस्पे’क्टर थे.बीजेपी से निष्का’सित पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने 2017 में क’थित रूप से महिला का अपह’रण कर दु’ष्क’र्म किया था, जब वह नाबा’लिग थी.

को’र्ट ने पिछले साल 20 दिसंबर को कुलदीप सेंगर को दु’ष्क’र्म के आ’रोप में जे’ल भेज दिया था. उन्नाव में कुलदीप सेंगर और उसके साथियों ने 2017 में नाबा’लिग को अपह’रण करके सामू’हिक दु’ष्क’र्म किया था. इस मामले की जां’च सीबी’आई ने की थी. सुप्री’म को’र्ट के निर्देश पर के’स दिल्ली की तीस ह’जारी को’र्ट में ट्रांसफर कर दिया गया था. दिल्ली को’र्ट ने दो’षी कुलदीप सिंह सेंगर को 20 दिसंबर को उ’म्रकै’द की स’जा सुनाते हुए उसे आजीवन का’रावा’स के आदेश दिए थे. सेंगर पर 25 लाख रुपए जु’र्माना भी लगाया गया था. कुलदीप सेंगर की विधानसभा सदस्यता भी र’द्द की जा चुकी है.