सोशल मीडिया पर मुस्लिम विरोधी न’फर’त और इस्ला’मोफो’बिया के बढ़ते ज्वार की पृष्ठभूमि में, दुबई की एक कंपनी ने फेसबुक पर अपने नफ’रत भरे पोस्ट के लिए हैदराबाद के एक कर्मचारी को बर्खास्त कर दिया।

हैदराबाद की बाला कृष्णा नकका, जो दुबई की मोरो हब डेटा सॉल्यूशंस कंपनी में मुख्य लेखाकार के रूप में काम कर रही थीं, को उनकी इस्ला’म वि’रोधी फेसबुक पोस्ट के वायरल होने के बाद बर्खास्त कर दिया गया। महिला ने अपने फेसबुक पेज पर तस्वीरें पोस्ट की थीं जिसमें मुस’लमा’नों को आ’त्मघा’ती ह’मलाव’र के रूप में कोरोनावायरस कोशिकाओं को बम के रूप में पहने हुए दिखाया गया था।

उसके खि’लाफ कार्रवाई के लिए फेसबुक और ट्विटर दोनों पर मांगें शुरू कर दीं गई। एक त्वरित प्रतिक्रिया में कंपनी ने घोषणा की कि व्यक्ति को उसकी नौकरी से बर्खास्त किया जा रहा है, क्योंकि कंपनी के पास न’फर’त फैलाने वाले के प्रति शून्य सहिष्णुता थी।

मोरो हब ने एक बयान में कहा: “मोरो में, हम सामग्री के लिए एक शून्य सहिष्णुता रवैया लेते हैं जो कि इस्ला’मोफि’क या घृ’णास्पद भाषण माना जा सकता है। मोरो के ब्रांड मूल्यों को दर्शाने वाले ट्वीट्स हमें किसी भी तरह से सचेत नहीं करते हैं।”

बता दें कि इससे सऊदी अरब, कुवैत और यूएई के कई हिस्सों में मुस्लिम वि’रोधी टिप्पणियों को लेकर कई भारतीय हिन्दुओ को नौकरी से निकाला जा चुका है। और कई को जेल भेजा जा चुका है।