दमदार आवाज़ और बोलती आँखों वाले अभिनेता इरफ़ान खान बॉलीवुड का जाना-माना नाम थे.

जयपुर में जन्मे इरफ़ान खान का जन्म 7 जनवरी 1967 को हुआ था.

मकबूल, हासिल, नेमसेक, रोग, मदारी जैसी फिल्मों से अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके इरफ़ान ने हॉलीवुड में लाइफ ऑफ़ पाई, जुरासिक वर्ल्ड जैसी फिल्मों से अपनी धाक जमाई थी.

इरफ़ान खान को साल 2011 में फिल्मों में अपने बेहतरीन योगदान के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया गया.

फिल्मों में आने से पहले इरफ़ान खान क्रिकेटर बनना चाहते थे लेकिन ये बॉलीवुड की खुशकिस्मती ही थी कि इरफ़ान उस वक़्त क्रिकेटर नहीं बन पाए.

दिल्ली एनएसडी में अभिनय की शिक्षा लेने के दौरान ही उनकी मुलाकात सुतपा सिकदर से हुई.

इसके बाद इरफ़ान और सुतपा 23 फ़रवरी को शादी के बंधन में बंध गये.

इरफ़ान अपने पीछे परिवार में पत्नी सुतपा और दो बेटे बाबिल और अयान को छोड़ गये हैं.

इरफ़ान खान ने मात्र 53 साल के जीवन में 60 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया है.

कम ही लोग जानते हैं कि इरफ़ान खान अपने नाम की बजाय अपने काम से जाने जाना चाहते थे इसलिए उन्होंने अपने नाम में से ‘खान’ हटा दिया था.

इरफ़ान खान ने अपनी फिल्मों में हर तरह के किरदार निभाये. फिर चाहे वो विलेन वो या कॉमेडी या फिर हीरो. हर रोल में वे दर्शकों के दिल के करीब ही रहे.

दो साल पहले कैंसर के चलते इरफ़ान खान विदेश से अपना इलाज करवा कर लौटे थे.

कैंसर से उबरने के बाद इरफ़ान खान ने करीना कपूर खान के साथ फिल्म ‘अंग्रेजी मीडियम’ में काम किया, जो उनकी आखिरी फिल्म थी.

 

कौन जानता था कि उनकी दूसरी पारी का आगाज़ ही उनका अंजाम साबित होगा.