‘शायद इस देश को राशन से ज्यादा शराब की ज़रूरत है, होम डिलीवरी करवा दो सरकार’

0
118

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में लॉक’डाउन लागू है जो हाल ही में तीसरी बार बढाया गया है. लॉक’डाउन के इस तीसरे चरण में केंद्र सरकार ने देश भर में अलग-अलग जोन में कई तरह की छूट दी हैं. लेकिन एक छूट देश भर में सामान रूप से लागू की गयी है, वो है शराब की दुकानों को खोलने का फैसला.

सरकार के इस फैसले के पीछे कई वजहें हो सकती हैं. फिर चाहे वो लॉक’डाउन के शुरुआत में कई लोगों की शराब न मिलने के कारण आत्मह’त्या करने की खबरें हों या देश के खजाने को शराब से मिलने वाला सबसे भारी-भरकम राजस्व. खैर, सरकार ने कई ज़रूरी चीजों को दरकिनार करते हुए शराब को तरजीह क्यों दी, इसकी असल वजह तो वही जानें. लेकिन देश की जनता शराब मिलने के फैसले को लेकर किस कदर उत्साहित है ये कल से होने वाली तैयारियों से ही अंदेशा होने लगा था.

आज सोमवार सुबह से ही शराब की दुकानों के आस-पास जिस तरह से भीड़ उमड़नी शुरू हुई, उससे साफ़ जाहिर था कि कोई अप्रिय घ’टना भी घटित हो सकती है. और शराब की दुकानों के खुलते-खुलते ऐसा हुआ भी.

जहाँ ठेकों के खुलने से पहले भीड़ अनुशासित तरीके से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करती नज़र आई, वहीँ शराब की दुकानों के खुलने के साथ ही ये अनुशासन और सोशल डिस्टेंसिंग नदारद हो गयी. देश भर से ऐसी तसवीरें सामने आ रही हैं जिससे लग रहा है कि इस देश की जनता को रोटी से ज्यादा शराब की तलब है.

दिन चढ़ते-चढ़ते दिल्ली और उसके बाद और भी कई शहरों में धक्का-मुक्की और अफरा-तफरी से हालात ये हो गए कि पु’लिस को ला’ठी चा’र्ज करना पड़ गया. कुछ शहरों में शराब की दुकानों पर उप’द्रव भी हो गया. इसके साथ ही शराब की दुकानें भी आनन-फानन में बंद करा दी गयीं.

 

सोशल मीडिया पर भी जहाँ ऐसे लोगों की लानत-मलानत हो रही है, वहीँ लोग इन तस्वीरों के मज़े भी ले रहे हैं. कई लोगो सोशल मीडिया पर शराब की होम डिलीवरी की सलाह भी देते नज़र आ रहे हैं.

अब देखना ये है कि सरकार इस मामले पर क्या संज्ञान लेती है शराब की दुकानों का खुलना आगे भी बरक़रार रहता है या एक बार फिर सुराप्रेमियों का शौक लॉक’डाउन की ब’लि चढ़ता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें