तेलंगाना के वारंगल में एक द’र्दनाक घ’टना सामने आई है. यहां एक कुएं से 9 प्रवासी मजदूरों के श’व बरा’मद हुए हैं. पु’लिस ने सभी श’वों को निकालकर पोस्टमॉ’र्टम के लिए भेज दिया है. बताया जा रहा है कि म’रने वाले सभी मजदूर बंगाल और बिहार के रहने वाले थे. इनमें बच्चों और महिलाओं के श’व भी शामिल हैं. मामला वारंगल के ग्रामीण इलाके का है. यहां एक कुएं में से 9 श’व निकाले गए हैं. पु’लिस ने बताया कि उन्हें गीसुगोंडा मंडल के गोर्टेकुंटा इंडस्ट्रियल एरिया में बने एक कुएं के अंदर प्रवासी मजदूरों के श’व पड़े होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद मौके पर पहुंचकर उन्होंने श’व निकाले. पु’लिस ने बताया कि जानकारी के मुताबिक सभी मजदूर वहां एक कोल्ड स्टोरेज में काम करते थे.

पु’लिस ने बताया कि म’रने वाले नौ लोगों में एक बच्चा और एक महिला भी शामिल है. पड़ताल में पता चला है कि सात लोग पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे और दो मजदूर बिहार के निवासी थे. वे तेलंगाना में काम करते थे. लॉक’डाउन के बाद से उनकी आमदनी बंद हो गई थी. जिससे वे लोग परेशान थे. वे अपने-अपने गांव जाने जाने वाले थे लेकिन अचानक ला’पता हो गए थे. पु’लिस ने बताया कि सभी श’वों को पोस्टमॉ’र्टम के लिए एमजीएम हॉस्पिटल भेजा गया है. के’स दर्ज कर लिया गया है और मामले की जांच की जा रही है. प्रवासी मजदूरों से जुड़े सभी लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है. स्थानीय लोगों से भी पड़ताल की जा रही है. पु’लिस ने बताया कि श’व निकालने के लिए पंप के जरिए पहले कुएं से पानी निकाला गया, उसके बाद श’व बाहर निकाले जा सके.