एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ाने वाली टीचर हुई गिर’फ्तार, करोड़ों में ली थी सैलरी

0
299

उत्तर प्रदेश के कासगंज में बेसिक शिक्षा विभाग को धो’खा देकर बड़ा फ’र्जीवाड़ा करने वाली शिक्षिका अनामिका सिंह को शनिवार को गिर’फ्तार कर लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक यूपी के 25 स्कूलों में फ’र्जी तरीके से नौकरी करने के मामले में सुर्खियों में आई शिक्षिका अनामिका शुक्ला के नाम पर फ’र्जी नौकरी करने वाली अनामिका सिंह से पूछताछ में कुछ बड़े खुलासे सामने आ सकते है. बता दें कि हाल ही में शिक्षकों का डेटाबेस तैयार होने के दौरान ये फ’र्जीवाडा सामने आया. शिक्षिका अनामिका सिंह गैरका’नूनी तरीके से एक साथ 25 स्कूलों में नौकरी कर रही थी. एक साल के अन्दर इस शिक्षिका ने एक करोड़ रुपये की सैलरी उठायी है. कासगंज में फ’र्जी अभिलेख पर नौकरी कर रही अनामिका सिंह त्यागपत्र देने आई थी. बताया जा रहा है कि राज नाम के व्यक्ति ने अनामिका सिंह की फ’र्जी नौकरी लगवाई थी. जो वर्तमान में कासगंज के फरीदपुर के कस्तूरबा गांधी स्कूल में तैनात थी.

अनामिका सिंह पर आ’रोप है कि उसने अनामिका शुक्ला के नाम पर फ’र्जी दस्तावेजों के जरिए नौकरी हासिल की थी, जिसकी पु’लिस को बहुत दिनों से तलाश थी. अनामिका सिंह कासगंज के कस्तूरबा विद्यालय फरीदपुर में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में पूर्णकालिक रूप से सेवाएं कर रही थी. बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों के निर्देशों पर जिले में अनामिका सिंह नाम की शिक्षिका की तलाश की गई तो कस्तूरबा विद्यालय में यह शिक्षिका पाई गई. शुक्रवार को बेसिक शिक्षा अधिकारी ने शिक्षिका के वेतन आहरण पर रोक लगाते हुए नोटिस जारी किया था.

शुक्रवार की शाम शिक्षिका ने इस नोटिस को देखा तो आज सुबह अपना इस्तीफा देने बीएसए दफ्तर के बाहर पहुंची. अपने साथ आए एक युवक के माध्यम से उसने इस्तीफा की प्रति बीएसए को भेजी. जब युवक से शिक्षिका के बारे में पूछताछ की तो उसने बताया कि अनामिका सिंह बाहर सड़क पर खड़ी हैं. इस पर बीएसए अंजली अग्रवाल ने सोरों पुलिस को मामले की जानकारी दी और कार्यालय के स्टाफ के माध्यम से घेराबंदी करके फर्जी टीचर को पकड़कर सोरों थाने के हवाले कर दिया. फिलहाल पु’लिस आरो’पी अनामिका सिंह से पूछताछ में जुटी है.

यह टीशर्ट खरीदने के लिए इस फोटो पर क्लिक करें