कोरोनावायरस के बीच टी-20 वर्ल्ड कप को लेकर चल रही जद्दोजहद ख़त्म हो गयी है. ऑस्ट्रेलिया में इस साल अक्टूबर-नवंबर में टी-20 वर्ल्ड कप होने की उम्मीदें बढ़ गईं हैं. ऑस्ट्रलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने देश में खेलों की वापसी को लेकर अहम घोषणा की है. उन्होंने कहा कि अगले महीने से दर्शकों को स्टेडियम में आने की इजाजत होगी. हालांकि शुरुआती फेज में 25% दर्शक ही स्टेडियम आ सकेंगे. उन्होंने कैबिनेट बैठक के बाद जानकारी दी कि ये बदलाव टूर्नामेंट, फेस्टिवल और कॉन्सर्ट पर लागू होंगे. जिस स्टेडियम की कैपेसिटी 40 हजार लोगों की है, वहां शुरुआत में 10 हजार लोग ही आ सकेंगे. मॉरिसन ने कहा कि स्टेडियम में सीटें गाइडलाइंस के अनुसार सही दूरी पर होनी चाहिए. दर्शकों को टिकट नंबर के साथ देने की जरूरत होगी. उन्होंने कहा कि चीफ मेडिकल ऑफिसर्स की मदद से स्टेडियम के बाहर पब्लिक प्लेस के लिए भी नियम बनाए जा रहे हैं. क्रिकेट जगत के लिए ये राहत भरी खबर है क्योंकि बगैर दर्शकों के टूर्नामेंट होने से रेवेन्यू का ज्यादा नुकसान हो रहा था. साथ ही कई खिलाड़ी भी इस तरह से खेलने को लेकर बहुत उत्साहित नहीं थे.

हालाँकि आईपीएल के लिए यह खबर अच्छी नहीं है, क्योंकि बीसीसीआई अक्टूबर-नवंबर की विंडो में ही आईपीएल कराने पर विचार कर रहा है. ऑस्ट्रेलिया सरकार के इस फैसले से पहले टी-20 वर्ल्ड कप का टलना लगभग तय था. क्योंकि, ऑस्ट्रेलिया भी बगैर दर्शकों के टूर्नामेंट नहीं कराना चाहता था. यदि टी-20 वर्ल्ड कप 25% फैन्स के साथ होता है, तो आईपीएल होने की संभावना बहुत कम है. यदि आईपीएल रद्द होता है तो बीसीसीआई को 4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है. अब बीसीसीआई को नुकसान से बचने के लिए टूर्नामेंट के लिए नई विंडो तलाशनी होगी. इस साल टी-20 वर्ल्ड कप 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होना है. इसके ठीक बाद दिसंबर में टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है.

सितंबर में होने वाले एशिया कप के टलने की स्थिति में भी आईपीएल होने की संभावना है. इस बार पा’किस्तान की मेजबानी में एशिया कप होना है, लेकिन पा’किस्तान क्रिकेट बोर्ड कई बार कह चुका है कि वह आईपीएल के लिए एशिया कप नहीं टालेगा. वहीं, दूसरी ओर भारत में सितंबर में मानसून सीजन होता है. ऐसे में बारिश आईपीएल के लिए बड़ी मुश्किल साबित होगी. एक दिन पहले ही बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा था कि आईपीएल बिना दर्शकों के भी हो सकता है. गांगुली ने कहा था, ‘‘हाल ही में कई भारतीय और विदेशी खिलाड़ियों ने आईपीएल में खेलने की इच्छा जताई है. फैन्स, फ्रेंचाइजी, खिलाड़ियों, ब्रॉडकास्टर, स्पॉन्सर्स और सभी स्टैकहोल्डर्स को उम्मीद है कि इस साल आईपीएल जरूर होगा. आईपीएल के भविष्य को लेकर बीसीसीआई जल्द ही फैसला करेगा.’’