भारत में 59 चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया गया है. इनमें टिकटोक, यूसी ब्राउजर, शेयरइट और कैमस्कैनर जैसे लोकप्रिय ऐप्स शामिल हैं. भारतीय सरकार ने यह फैसला यूजर्स के डेटा की सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए लिया है. सरकार की तरफ से जारी बयान में इसे देश की सुरक्षा और एकता को बनाए रखने के लिए जरूरी कदम बताया गया है. बता दें कि भारत और चीन के बीच सीमा विवा’द शुरू होने के बाद से ही चाइनीज ऐप्स बैन करने और चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग उठ रही थी.

चाइनीज ऐप्स पर यह कार्रवाई इन्फॉर्मेशन टेक्नॉलजी ऐ’क्ट, 2000 के सेक्शन 69A (किसी भी कंप्यूटर संसाधन से किसी भी जानकारी के सार्वजनिक उपयोग पर रोक लगाने का अधिकार) के तहत की गई है. सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने बताया, ‘हमें कई सूत्रों और रिपोर्ट्स से मोबाइल ऐप्स के जरिए यूजर्स के डेटा की चो’री और भारत से बाहर स्थित सर्वर्स पर बिना अनुमति डेटा ट्रांसफर की जानकारी मिली थी. चूंकि यह भारत की संप्रभुता और अखंडता पर प्रहा’र है, इसलिए तुरंत कार्र’वाई की आवश्यकता है.’

रिपोर्ट की मानें तो अब इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स को इन ऐप्स को बैन करने के निर्देश दिए जाएंगे. हो सकता है जल्द ही यूजर्स को एक मेसेज मिले जिसमें कहा गया हो, ‘सरकार के आदेश पर इन ऐप्स का ऐक्सेस रोक दिया गया है.’ यह तरीका टिक-टॉक, यूसी न्यूज जैसे उन ऐप्स पर कारगर साबित होगा जिन्हें लाइव फीड के लिए इंटरनेट की आवश्यकता होती है. हालांकि हो सकता है ऑफलाइन इस्तेमाल होने वाले ऐप्स यूं ही चलते रहें और यूजर्स को खुद ही उन्हें हटाना पड़े. इसके अलावा बैन किए गए ऐप्स को प्ले स्टोर और ऐप स्टोर से हटा दिया जाएगा. साथ ही यूजर्स को इन्हीं सुविधाओं वाले दूसरे ऐप्स उपलब्ध कराए जा सकते हैं.