सऊदी सरकार ने हज 2020 केलिए कड़े एहतियाती कदम उठाते हुए हज की तैयारी शुरू कर दी है। इस साल हज में सिर्फ 10 हज़ार सऊदी नागरिक और प्रवासी शिरकत कर सकेंगे। इसके लिए सऊदी सरकार ने कुछ गाइड लाइन्स भी निर्धारित की है।

इस साल हज के दौरान, ज़ायरीनों को पवित्र काबा या ब्लैकस्टोन को छूने पर प्रतिबंध सहित कुछ बाधाओं से गुजरना होगा।

सऊदी सरकार ने 2020 के हज के लिए म’हामा’री से बचने के लिए कुछ नियम बनाए। इसने ज़ायरीनों को उनके राज्य समाचार के अनुसार एक-दूसरे के साथ मिलने और इकट्ठा होने के लिए प्रतिबंधित कर दिया।

पवित्र काबा को छूने पर प्रतिबं’ध के बीच ये अधिक प्रतिबंध हैं;
बिना परमिशन के प्रवेश 28 धुल क़दाह से 12 धुल हिजाह के पवित्र स्थलों के लिए बुलाया जाएगा।

संदिग्ध लक्षणों वाले ज़ायरीन अलग-अलग क्षेत्र में समान संदिग्धों के साथ अलग-अलग रह रहे होंगे। किसी भी लक्षण के होने पर स्वयंसेवकों या मजदूरों को काम करने से वंचित कर दिया जाएगा।

प्रत्येक कार्यकर्ता और ज़ायरीन के लिए मास्क अनिवार्य है
हर कोई 1.5 मीटर की भौतिक दूरी बनाए रखेगा। कार्मिक वस्तुओं या औजारों को साझा करना वर्जित होगा। मास्क पहनकर और शारीरिक दूरी बनाए रखने के बाद ही इबादत का पालन किया जा सकता है।

ज़ायरीनों को ब्लैकस्टोन या काबे को छूने से भी मना किया जाता है।
तवाफ के दौरान भी, भौतिक दूरी बनाए रखी जाएगी। शैतान को कंकड़ मा’रने वाली कंकड़ पत्थर को पहले से पैक किया जाएगा। मुज़दलिफ़ा और अराफ़ात का खाना भी पहले से पैक किया जाएगा।