वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव के बाद चीन के पीछे हटते कदमों के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दो दिवसीय दौरे पर लद्दाख पहुंचे हैं. उन्होंने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और थल सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने के साथ सीमावर्ती इलाकों का दौरा किया और एलएसी पर सुरक्षा हालात का जायजा लिया. लद्दाख पहुंचे रक्षा मंत्री ने लुकुंग चौकी पर जाकर भारतीय सेना के जवानों एवं अधिकारियों से बातचीत की. इस दौरान जवानों का हौंसला बढाया. रक्षा मंत्री ने कहा कि इस समय सीमा विवा’द को सुलझाने के लिए बातचीत का दौर चल रहा है. मामला हल होना चाहिए, लेकिन कहां तक हल होगा इसकी अभी मैं कोई गारंटी नहीं दे सकता हूं. मैं इतना यकीन दिलाना चाहता हूं कि भारत की एक इंच जमीन को भी दुनिया की कोई भी ताकत छीन सकती.

लेह में रक्षा मंत्री ने मशीनग’न चलाकर चीन को चेतावनी दी. इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद लेह पहुंकर चीन को मुंहतो़’ड़ जवाब देने वाले जवानों की पीठ थपथपा चुके हैं. राजनाथ सिंह पूर्वी लद्दाख के गलवन में चीनी सैनिकों से हुई खू’नी झ’ड़प में घा’यल हुए जवानों से मुलाकात करेंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवाने लेह के स्टाकना पहुंचे हैं. रक्षा मंत्री की मौजूदगी में भारतीय सेना के टी -90 टैंक और बीएमपी पैदल से’ना के ल’ड़ाकू वाहनों ने अभ्यास किया. लेह में भारतीय सश’स्त्र बलों के सैनिकों ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में पैरा ड्रापिंग अभ्यास किया. जानकारी के अनुसार रक्षा मंत्री लेह स्थित उत्तरी कमान की 14 कोर के मुख्यालय में सेना अधिकारियों से बैठक कर पूर्वी लद्दाख के मौजूदा हालात पर चर्चा करेंगे. एलएसी पर तैनात जवानों से भी मिलेंगे.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवाणे लेह हवाई अड्डे पर पहुंचे. रक्षा मंत्री को 3 जुलाई को ही लद्दाख आना था. तभी अचानक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लद्दाख दौरा तय हो गया. इससे रक्षा मंत्री का कार्यक्रम टल गया था. रक्षा मंत्री कश्मीर में सुरक्षा हालात की भी जानकारी लेंगे. इस समय कश्मीर में आ’तंक’वादियों पर कड़े प्र’हार कर स्थायी शांति कायम करने की कोशिश सतत जारी है. से’ना की पंद्रह कोर मुख्यालय श्रीनगर में रक्षा मंत्री अधिकारियों से बैठक करेंगे. इसमें वह आतं’कवा’दियों के खि’लाफ अभियान व गोलाबा’री कर रहे पा’किस्तान को मुंहतो़’ड़ जवाब देने के लिए उठाए जा रहे कदमों जानेंगे. इसके बाद वह दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.