कोरोना वायरस ने पिछले कुछ महीनों से पूरी दुनिया पर कह’र बरपा रखा है. जहां कई देश इस वैश्विक महामा’री की चपेट में आने के बाद उबर चुके हैं तो वहीं अभी भी कई देश हैं जो अभी भी इससे जूझ रहे है. अब जानकारी मिली है कि इस बीमारी के अब तक के बताए गए लक्षणों में एक और नया लक्षण शामिल हो गया है. कोरोना के ताजे लक्षणों में शामिल हुआ है मुंह में रैशेज़ होना. हालांकि अभी ये जानकारी वैज्ञानिकों से प्राप्त हुई है. भारत में आईसीएमआर ने आधिकारिक तौर पर इसे तय लक्षणों में शामिल नहीं किया है.

कोविड-19 और सामान्य फ्लू के बीच अंतर करना मुश्किल है. कोरोना वायरस के लक्षण भी आम फ्लू की तरह बुखार, सूखी, खांसी और सांस लेने में दिक्कत आदि हैं. बाद में कोविड-19 के लक्षण जो बताए गए वह भी अधिकतर लोगों को सामान्य वायरल के दौरान हो जाते हैं. जैसें कि सर्दी लगना, किसी भी चीज की स्मेल न आना या फिर मुंह में किसी चीज का स्वाद न लगना. मुंह में रैशेज होने को कोरोना वायरस के ताजे लक्षणों में शामिल किया गया है. स्पेन के डॉक्टर्स ने यह जानकारी साझा की है. इन डॉक्टर्स का कहना है कि बीते कुछ दिनों में इनके पास ऐसे कई कोरोना मरीज पहुंचे हैं जिन्हें माउथ रैशेज की समस्या थी. इस समस्या चिकित्सीय भाषा में ‘एनांथम’ कहा जाता है.

जामा डर्मेटोलॉजी में 15 जुलाई को प्रकाशित हुई इस स्टडी में बताया गया है कि बीते कुछ समय में जितने भी मरीज कोविड-19 से संक्रमित से पाए गए हैं उनमें से 21 मरीजों के स्किन रैशेज और 21 में से 6 मरीजो के माउथ रैशेज की समस्या थी. बता दें कोरोना से संक्रमित मरीजों में ये लक्षण हाल में देखने को मिला है या नहीं इसे बारे में अभी कोई पुष्टि नहीं हुई है. क्योंकि कोविड-19 बिल्कुल नया वायरस था ऐसे में प्रत्यक्ष दिखने वाले लक्षणों के अलावा ओरल हेल्थ की जांच शुरुआती स्तर पर नहीं की गई थी.