दिल्ली से नजदीक बसे गुरुग्राम में बकरीद के दिन मीट ले जा रहे शख्स को तथाकथित गौ रक्षकों द्वारा बुरी तरह पी’टे जाने के मामले में पहली गिर’फ्तारी हो गयी है. पु’लिस ने प्रदीप यादव नाम के शख्स को गौमांस के शक में युवक को निर्म’मता से पी’टने के आ’रोप में गिर’फ्तार किया है. ज्ञात हो कि गुरुग्राम में शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे मीट से भरी एक पिकअप गाड़ी का कई किलोमीटर पीछा करके कथित गौ रक्षकों ने पकड़ लिया. इन गौ रक्षकों ने पिकअप के चालक लुकमान को गाडी से नीचे उतार कर निर्म’मतापूर्वक पी’टना शुरु कर दिया. मीडिया में सामने आई तस्वीरों में साफ़ दिख रहा है कि कथित गौ रक्षक उक्त युवक लुकमान को हथोड़े से पी’ट रहे हैं. पु’लिस ने घा’यल लुकमान के बयानों के आधार पर अज्ञात लोगों के खि’लाफ कई धाराओं में के”स दर्ज किया है. इस मामले में अभी पहली गिर’फ्तारी हुई है.

पिकअप गाड़ी के मालिक ने दावा किया है कि वो पिछले 50 सालों से मांस के कारोबार में हैं लेकिन वह गौमांस का कारोबार नहीं करते हैं. उन्होंने दावा किया कि इस गाड़ी में भैंस का मीट लाया जा रहा था. पु’लिस ने कथित गौ रक्षकों के खिला’फ के’स दर्ज कर मीट का सैंपल जांच के लिए लैब में भेज दिया है. गौरतलब है कि किसी शख्स द्वारा इस घ’टना का मोबाइल में विडियो बना लिया गया. इस विडियो में साफ दिख रहा है कि तथाकथित गौ रक्षक बेहद निर्म’मता से गाड़ी चालक को बीच सडक पर हथोड़े से पी’ट रहे हैं. हैरानी की बात ये है कि ये घट’नाक्रम गुरुग्राम पु’लिस के सामने सड़क पर खुलेआम हुआ, जहाँ काफी भीड़ मौजूद थी लेकिन कोई भी व्यक्ति इस घ’टना को रोकने या इसमें हस्तक्षेप करने सामने नहीं आया.

बताते चलें कि आरो’पी युवकों ने बादशाहपुर कस्बे से पिकअप गाड़ी का करीब 8 किलोमीटर तक पीछा किया और गुरुग्राम की जुम्मा मस्जिद के पास गाडी को पकड़ लिया गया. इसके बाद गाडी चालक लुकमान को गाडी से उतार कर मस्जिद के पास ही पु’लिस और अन्य लोगों की भीड़ के सामने हथोडों से पी’टा गया. लुकमान को अधम’रा करने के बाद कथित गौ रक्षक उसे उसी की गाड़ी में डालकर ले गए और वापिस बादशाहपुर ले जाकर फिर से पी’टा गया. इस पर खबर मिलने पर बादशाहपुर था’ने की पु’लिस आई जिसके बाद पु’लिस ने लुकमान को छुड़वा कर पु’लिस वैन में बिठा लिया. इस पर कथित गौ रक्षक पु’लिस से ही उलझ गए. घ’टना की जानकारी मिलने के बाद सोहना से बीजेपी के विधायक संजय सिंह भी मौके पर पहुंचे और घा’यल को सड़क पर पड़े देखते रहे.