पहले कोई भी खबर लोगों तक रेडियो, न्यूज़ चैनल या अखबार के माध्यम से ही पहुँचती थी. लेकिन इन्टरनेट के युग में सोशल मीडिया सबसे जल्दी लोगों तक खबर पहुंचाने का माध्यम बन गया है. एक ओर जहाँ इसके कई फायदे हैं तो कई नुक्सान भी हैं. इसका सबसे बड़ा नुक्सान है फ’र्जी खबरों की भी जनता तक पहुँच होना. ऐसी फ’र्जी खबरों पर लगाम लगाने के लिए सोशल मीडिया भी अब कमर कस रहा है. इसी कड़ी में वॉट्सऐप ने अपने एप में एक ऐसा फीचर जोड़ा है, जिसके ज़रिये फ’र्जी खबरों पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी.

वॉट्सऐप के इस नए फीचर का नाम ‘सर्च द वेब’ है. इसे खासतौर पर फ’र्जी खबरों को रोकने के लिए बनाया गया है. हालाँकि इस नए फीचर की शुरुआत अभी चुनिंदा देशों में ही हुई है. इसे अभी भारत में लॉन्च नहीं किया गया है. लेकिन इसकी उपयोगिता और लोकप्रियता देखते हुए जल्दी ही इसके भारत में भी शुरू किये जाने की उम्मीद है. वॉट्सऐप का ये नया फीचर एंड्रायड, आईओएस और वॉट्सऐप वेब पर लेटेस्ट वर्जन के लिए भी उपलब्ध होगा. वॉट्सऐप के ब्लॉग के मुताबिक ‘सर्च द वेब’ नाम के फीचर से वेब पर मैसेज के सामने सर्च का बटन बन जाएगा.

उस मैसेज के साथ दिए मैगनिफाइंग ग्लास (सर्च बटन) आइकन पर क्लिक कर सकते हैं, जिसके बाद फोन के डिफॉल्ट ब्राउज़र पर रिडायरेक्ट किया जाएगा, जहां मैसेज अपलोड हो जाएगा. इससे यूज़र भेजे गए मैसेज को सीधे वॉट्सऐप से वेब पर सर्च कर सकेंगे और ये चेक कर सकेंगे कि भेजा गया मैसेज फेक तो नहीं. ब्लॉग के मुताबिक फीचर से यूज़र मैसेज को ब्राउजर के लिए अपलोड कर सकेंगे लेकिन वॉट्सऐप उन मैसेज को नहीं पढ़ सकेगा, यानी कि इससे वॉट्सऐप पर यूज़र की प्राइवेसी पर कोई असर नहीं पड़ेगा.अभी तक इस फीचर को ब्राजील, इटली, आयरलैंड, मैक्सिको, स्पेन, ब्रिटेन और अमेरिका में शुरू किया गया है.