यें है पाकिस्तान की पहली महिला रेलवे स्टेशन मैनेजर, नियुक्ति के चंद घंटों बाद हो गया ऐसा..

0
1015

7 अगस्त को, सैयदा मरज़िया ज़हरा पाकिस्तान रेलवे (पीआर) की पहली महिला स्टेशन प्रबंधक बनीं, जिसे कुछ ही घंटों में उनका पद छीन लिया गया। जी हाँ यह बात बिलकुल सही है कि नियुक्ति के 7-8 घंटे बाद ही उन्हें नौकरी से निकाल दिया है। अब इसकी एक बड़ी वजह सामने आई है।

पाकिस्तान की सेंट्रल सुपीरियर सर्विस के रेलवे समूह की महिला अधिकारी लाहौर स्टेशन प्रबंधक के रूप में अपनी स्थिति को बरकरार नहीं रख सकी क्योंकि स्टेशन मास्टर्स के एक संघ ने उनकी नियुक्ति का कथित रूप से विरो’ध किया। जिसके बाद उन्हें नौकरी से हाथ धोना पड़ा।

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़, संघ के PR प्रशासन ने तुरंत ज़ाहरा की नियुक्ति स्टेशन प्रबंधक के रूप में वापस ले ली, जो सहायक परिवहन अधिकारी -1 (एटीओ -1), पीआरएस लाहौर डिवीजन के रूप में कथित तौर पर दबाव के कारण उसकी जिम्मेदारी से बाहर था।

सूत्रों के मुताबिक,“शुक्रवार को, पीआर प्रशासन ने एक अधिसूचना जारी की, जिसमें सुश्री ज़हरा को लाहौर स्टेशन प्रबंधक का प्रभार सौंपा गया। इस पर, स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन (संप्र्स यूनियन) ने स्टेशन प्रबंधक की सीट पर एक सीएसएस (सेंट्रल सुपीरियर सर्विसेज) अधिकारी नियुक्त करने के निर्णय का विरो’ध किया गया, जिसका मतलब स्टेशन मास्टर के कैडर के अधिकारियों द्वारा अस्थायी रूप से या स्थायी रूप से भरा जाना है।

आख़िर में, वह पूरे दिन भी अपनी नौकरी बरकरार नहीं रख सकीं। उन्होंने कहा, “लाहौर स्टेशन प्रबंधक के रूप में एक सीएसएस महिला अधिकारी की नियुक्ति और सात से आठ घंटे के भीतर चार्ज वापस लेना पड़ा। बता दें कि पाकिस्तान में रेलवे के इतिहास में पहली बार हुआ है।”

आपको बता दें कि, ज़हरा ने पीआर के लाहौर डिवीजन एडमिन द्वारा यूनुस भट्टी को कार्यालय से हटा दिए जाने के बाद स्थिति प्राप्त कर ली थी।