सऊदी प्रेस एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल लेबर ऑब्जर्वेटरी (NLO.sa) की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, पिछले तीन सालों में निजी क्षेत्र में सऊदीकरण (Saudization) में लगातार वृद्धि हुई है।

बिन सलमान के विज़न 2030 जिसे पिछले साल लॉन्च किया गया था, मानव संसाधन और सामाजिक विकास मंत्रालय के तहत मानव संसाधन विकास कोष (HADAF) से संबद्ध है।

रिपोर्ट में कहा गया कि, “पिछले साल की समान अवधि में 20.21 प्रतिशत की तुलना में 2020 की पहली तिमाही के दौरान निजी क्षेत्र में कुल कार्यबल का 20.37 प्रतिशत सउदी का प्रतिशत था। निजी क्षेत्र में Saudization का प्रतिशत 2018 में 18.61 था। वहीं 2017 में 16.46 प्रतिशत, 2016 में 16.79 प्रतिशत, 2015 में 17.14 प्रतिशत और 2014 में 15.63 प्रतिशत के साथ पिछले वर्षों में Saudization के प्रतिशत में उतार-चढ़ाव हुआ था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल की पहली तिमाही में जनरल ऑर्गनाइजेशन फॉर सोशल इंश्योरेंस (GOSI) में पंजीकृत निजी क्षेत्र के सऊदी कर्मचारियों की संख्या 66.78 प्रतिशत और महिलाओं की 33.22 प्रतिशत थी। पूर्वी प्रांत 24.01 प्रतिशत के साथ (सऊदीकरण) सऊदिज़ेशन में पहले स्थान पर रहा और उसके बाद रियाद 20.72 प्रतिशत, मक्का (20.46 प्रतिशत), मदीना (18.14 प्रतिशत) और असीर (15.98 प्रतिशत) के साथ रहा।

वित्त और बीमा उच्चतम आर्थिक गतिविधियां थीं जहां निजी क्षेत्र में उच्चतम स्तर का Saudization (83.01 प्रतिशत) हासिल किया गया था। इसके बाद अंतर्राष्ट्रीय संगठनों (70.71 प्रतिशत), खनन और खदानों (61.95 प्रतिशत), शिक्षा (52.86 प्रतिशत) और सूचना और संचार (48.81 प्रतिशत) की गतिविधियाँ हुईं।