पैगंबर मोहम्मद (सल्ल) की शान में अभिव्यक्ति की आढ़ लेकर गुस्ताखी करने वाले लोगों का बचाव करने पर फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन के खि’लाफ मुस्लिमों का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में लाखों लोग सड़कों पर निकल आए और फ्रांसीसी उत्पादों के ब’हिष्का’र का ऐलान किया।

प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को ढाका में अपने मार्च के दौरान मैक्रॉन का पुत’ला ज’लाया। इसके साथ ही “फ्रांसीसी उत्पादों का बहि’ष्कार करें” का नारा भी बुलंद किया। इसके अलावा फ्रांसीसी नेता को उनके कथित इस्ला’मोफो’बिया पर दं’डित करने का आह्वान किया।

पुलिस ने अनुमान लगाया कि इस्लामी आंदोलन बांग्लादेश (IAB) पार्टी द्वारा आयोजित मार्च में 40,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया। रहमान ने बांग्लादेश सरकार से फ्रांसीसी राजदूत को वापस भेजने को भी कहा। जबकि एक अन्य नेता, हसन जमाल ने कहा कि कार्यकर्ता “उस इमारत की हर ईंट को उखाड़ देंगे” अगर दूत को वापस भेजने का आदेश नहीं दिया गया।

पार्टी के एक युवा नेता नेसर उद्दीन ने कहा, “फ्रांस मुसलमानों का दु’श्म’न है। जो लोग उनका प्रतिनिधित्व करते हैं, वे भी हमारे दु’श्मन हैं। मार्च ढाका में फ्रांसीसी दूतावास के करीब पहुंचने से पहले रोक दिया गया था। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए सैकड़ों अधिकारियों ने कंटीले तारों वाली बाड़ का इस्तेमाल किया, जो शांतिपूर्ण तरीके से मार्च कर रहे थे।