फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल माइक्रोन इस्लाम विरो’धी बयानों को लेकर अरब देशों के शासकों ने चुप्पी साधी हुई है। लेकिन इन देशों की जनता में काफी गु’स्सा है। जिसका असर फ्रांसीसी उत्पादों के बहिष्का’र में देखा जा रहा है। कुवैत के बाद अब कतर में बड़े पैमाने पर फ्रांसीसी उत्पादों का बहि’ष्कार किया जा रहा है।

कतर की कुछ कंपनियों ने फ्रांस में हुई हालिया घटनाओं के जवाब में अगली सूचना तक फ्रांस के उत्पादों को अपनी अलमारियों / सूची से हटाने की घोषणा की है। फ्रेंच उत्पादों के ब’हिष्का’==र में कुवैत जैसे अन्य देशों के शामिल होने के बाद कतर में शनिवार रात को ये घोषणाएं हुईं।

यहां उन कंपनियों की सूची दी गई है, जिन्होंने अब तक की घोषणा की:
अल मीरा कंज्यूमर गुड्स कंपनी
Qamamween एप्लिकेशन
सूक अल बलदी और कतर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स
अल वाजबा फैक्ट्री
Snoonu
अल-Rawnaq
ले ट्रेन बलेउ रेस्तरां
कुलुद फार्मेसी
अल मरकटी

कतर विश्वविद्यालय ने भी अपने आगामी फ्रांसीसी सांस्कृतिक सप्ताह को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया और कतर विश्वविद्यालय के छात्र प्रतिनिधि बोर्ड ने पैगंबर मुहम्मद (PBUH) के लिए फ्रांस के अप’राध के बारे में एक बयान जारी किया।


रविवार को एक बयान में, फ्रांस के विदेश मंत्रालय ने विश्व नेताओं को बहि’ष्कार से खुद को दूर करने का आह्वान किया और इसके बजाय फ्रांसीसी व्यवसायों को बढ़ावा देने की अपील की। बयान में कहा गया है, “बहि’ष्कार के ये आह्वान बेबु’नियाद हैं और इन्हें तत्काल रोकना चाहिए, साथ ही हमारे देश के खिला’फ सभी ह’मलों को भी रोकना चाहिए, जिन्हें कट्ट’रपं’थी अल्पसंख्यक धकेल रहे हैं।”