सऊदी अरब ने जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए जारी विशेष नोट में जी-20 देशों के नक्शे दिये हैं. नक्शे में सऊदी अरब ने गिलगित-बास्टिस्तान और पीओके को पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बताया है. पाकिस्तान इस मुद्दे पर अभी तक चुप है. बता दें कि जी-20 शिखर सम्मेलन 21 और 22 नवंबर को रियाद में होना है.

सऊदी अरब का यह कदम पाकिस्तान को अ’प’मानि’त करने के प्रयास से कम नहीं है. बता दें कि हाल के दिनों में सऊदी अरब के साथ ही बाकी अरब देशों के इ’स्रा’इल के साथ कूटनीतिक रिश्ते सुधर रहे हैं. पाक पीएम इमरान खान एलान कर चुके हैं कि पाकिस्तान किसी भी हालत में इ’स्राइ’ल के साथ कूटनीतिक रिश्ते नहीं बनायेगा. पाकिस्तान की नीति फिलिस्तीन और कश्मीर पर समान है. ऐसे में प्रिंस सलमान ने अपनी विदेश नीति बदल दी. वे अब भारत को अधिक महत्व दे रहे हैं.

दरअसल, पिछले साल भारत ने जब जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किया, तो पाक चाहता था कि सऊदी इसका विरो’ध करे. लेकिन सऊदी सहित सभी अरब देशों ने भारत का साथ दिया. इसके बाद पाक विदेश मंत्री ने सऊदी को धम’की तक दे डाली थी. इस हर’कत के बाद सऊदी ने पाकिस्तान से किनारा करना शुरू कर दिया था.