पैगंबर मुहम्मद (स.अ.व) पर चार्ली हेब्दों द्वारा प्रकाशित कार्टूनों के प्रसारण को सही ठहराना और इस्लाम वि’रोधी बयानबाजी करना फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को महंगा साबित हो सकता है। दरअसल, मुस्लिम देशों में फ्रांसीसी उत्पादों के ब’हिष्कार के बाद फ्रांस का मुख्य रूप से मुस्लिम देशों के साथ 100 अरब डॉलर से अधिक का विदेशी व्यापार दांव पर है।

राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोआन मैक्रोन के इस्लाम-वि’रोधी एजेंडे पर फ्रांसीसी उत्पादों को न खरीदने की अपील की है। एर्दोआन ने सोमवार को कहा, “जैसा कि वे कहते हैं कि फ्रांस में तुर्की के ब्रांडों के साथ सामान मत खरीदो, मैं यहां से अपने सभी नागरिकों से कभी भी मदद करने या उन्हें खरीदने के लिए नहीं कह रहा हूं।”

इस महीने की शुरुआत में, मैक्रॉन ने इस्लाम को “संकट में” बताया और फ्रांस में “इ’स्लाम’वादी अल’गाव’वाद” नामक चीज़ों से निपटने के लिए स’ख्त कानूनों की योजना की घोषणा की। फ्रांस ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बहाने पैगंबर के अप’मानज’नक कार्टून के प्रकाशन को भी नहीं रोका।

उनकी टिप्पणियों से कतर, जॉर्डन, कुवैत, मोरक्को, ईरान, बांग्लादेश, तुर्की और पाकिस्तान सहित कई मुस्लिम देशों द्वारा डेयरी उत्पादों और सौंदर्य प्रसाधनों सहित बड़े पैमाने पर का ब’हिष्का”र हुआ।

अनादोलु एजेंसी (एए) द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, मुख्य रूप से मुस्लिम देश फ्रांस के विदेशी व्यापार में एक महत्वपूर्ण भूमिका रखते हैं। कहा जाता है कि 2019 में फ्रांस ने इस्लामिक देशों को 45.8 बिलियन डॉलर का निर्यात किया है, जिसका आयात 58 बिलियन डॉलर है।